हस्ताक्षर अभियान को सभी वर्गों का मिल रहा समर्थन

नालंदा संवाददाता

गौरैया संरक्षण को लेकर जिलेभर में पर्यावरण दिवस के अवसर पर चल रहे हस्ताक्षर अभियान को आम से ख़ास और शहर से गांव तक दे रहे हैं ज़ोरदार समर्थन। लोगों द्वारा दिया गया समर्थन और अमूल्य विचार गौरैया संरक्षण के भावी योजना के लिए कारगर साबित होगा।

अभियान से जुड़कर गौरवान्वित हूँ

अभियान की शुरुआत मगध महिला कॉलेज बिहारशरीफ के प्राचार्य अनिल कुमार गुप्ता और पत्नी कुमारी सुनन्दा ने हस्ताक्षर कर किया। इस मौके पर उन्होंने कहा कि इस अभियान का हिस्सा बनकर बहुत ही गौरवान्वित महसूस कर रहा हूँ। गौरैया में हमारा संस्कार और गांव बसता है। यह हमारे परिवार और संस्कृति का अहम हिस्सा कड़ी रहा है। लेकिन आज की भौतिकवादी जिंदगी ने अपने घर-आंगन को छोड़ने पर मजबूर कर दिया है। अभियान के संचालक राजीव रंजन पाण्डेय को आभार व्यक्त करता हूँ कि इस विलुप्त होती प्रजाति की घर वापसी के लिए बेड़ा उठाया है। सभी लोगो से अपील करता हूँ कि इस अभियान से जुड़कर रूठी गौरैया को वापस अपने दिल और घरों में स्थान दें।

हरसंभव किया जाएगा मदद

हस्ताक्षर अभियान का हिस्सा बनकर हरगावां पंचायत के मुखिया प्रतिनिधि आमोद कुमार यादव ने कहा कि इस अभियान से हमारे पंचायत में सभी लोग उत्साहित हैं। राजीव जी के इस कदम का स्वागत करता हूँ।इस प्रजाति को बचाने के हरसंभव मदद किया जाएगा।

गौरैये की आबादी में 80 फ़ीसदी हुई कमी

वन्यजीव शोधकर्ता राहुल कुमार ने कहा कि गौरैया की आबादी में 80 फ़ीसदी तक कमी आयी है। यह पर्यावरण संतुलन के लिए बहुत आवश्यक है। इसे शहर से गांव तक था पुरे राज्य में चलाये जाने की जरूरत है। इसकी तेजी से घटती आबादी के लिए व्यपाक शोध और जन जागरूकता चलाने की जरूरत है। इसमें सरकार को भी आगे आना चाहिए।

500 से अधिक लोग बने हस्ताक्षर अभियान का हिस्सा

गौरैया संरक्षण अभियान के संचालक राजीव रंजन पाण्डेय ने कहा कि अभीतक 500 से अधिक लोग अपना हस्ताक्षर कर अभियान का समर्थन किया है। अभी तेजी लोग जुड़ रहे है। इसके बाद जिलाधिकारी और अन्य जिम्मेदार लोगो को ज्ञापन सौंपा जाएगा। बहुत जल्द जिले के उन स्थानों को चिन्हित किया जाएगा जहाँ गौरैया की आबादी बढ़ने की संभावना है। उसके बाद कृत्रिम घोषला लगाया जाएगा साथ हीं लोगों को जागरूक करने के लिए कार्यक्रम भी किया जाएगा।

एकमात्र उद्देश्य गौरैया की घर वापसी

सोसाइटी फॉर इंवायरमेंट एंड सस्टेनेबल डेवलपमेंट के चेयर मैन राकेश कुमार ने कहा कि इस अभियान को तेजी लाने के लिए सबका सहयोग लिया जा रहा है। अभियान का एकमात्र उद्देश्य विलुप्त होती गौरैया को पुनः अस्तित्व में लाना है।

इसमें निराला पाण्डेय, रामनगीना कुमार,विकास कुमार,रामप्रवेश प्रसाद, प्रिंस कुमार,कुमार कौशलेंद्र,तेजस्विता राधा,ज्योति कुमारी,वेदप्रकाश,भूषण कुमार के अलावे सैकड़ों लोग हस्ताक्षर कर अभियान को दे रहे है समर्थन।