जिलाधिकारी ने समीक्षा बैठक में अधिकारियों को दिये निर्देश

रिपोर्ट-धर्मेन्द्र सिंह

कन्नौज वार्षिक लक्ष्य की पूर्ति शत प्रतिशत सुनिश्चित की जाये । अधूरे पड़े
निर्माण कार्यो में तेजी लाकर निर्माण कार्य पूर्ण कराये जाये गुणवत्ता
पर विशेष ध्यान दिया जाये । निर्माण कार्य से संबंधित अधिकारी निर्धारित
समयसीमा के अन्दर जिन परियोजनाओं की धनराशि मिल गई है उनका निर्माण कार्य
पूर्ण करें तथा इस संबंध में दो दिन के अन्दर कार्ययोजना तैयार कर
प्रस्तुत करें।
उक्त निर्देश आज जिलाधिकारी राकेश कुमार मिश्र ने कैम्प कार्यालय
सभागार में स्वास्थ्य, सड़क, पेयजल, सेतु निर्माण, विद्युत, गढढा मुक्त
सड़क, सिचाई आदि विभागों द्वारा कराये जा रहे विकास कार्यों की गहन
समीक्षा करते हुये संबंधित अधिकारियों को दिये। उन्होंने मुख्य चिकित्सा
अधिकारी से जनपद में निर्माणाधीन प्राथमिक एंव सामुदायिक स्वास्थ्य
केन्द्रों के संबंध में भी निर्देशित करते हुये कहा कि जिन सामुदायिक एंव
प्राथमिक स्वास्थ्य केन्द्र के भवनों का निर्माण कार्य पूर्ण हो चुका है
उन्हें तत्काल हस्तगत किये जाने की कार्यवाही करते हुये अधूरी परियोजनाओं
को निर्धारित समयसीमा के अन्दर पूर्ण करते हुये संचालन की कार्यवाही
सुनिश्चित की जाये। उन्होनें सड़कों के निर्माण, चैड़ीकरण एंव सुन्दरीकरण
के संबंध में जानकारी की, जिसमें अधिशासी अभियंता लोक निर्माण विभाग
द्वारा बताया गया कि कोविड 19 के कारण जो कार्य प्रारम्भ तथा पूर्ण नही
हो पाये है उन्हें अब सोशल डिस्टेंसिग तथा मास्क का प्रयोग कराते हुये
निर्माण कार्य को प्रारम्भ किया गया, जिस पर जिलाधिकारी ने कहा कि
निर्माण कार्य में तेजी लाते हुये पूर्ण करें तथा जो कार्य प्रारम्भ नही
किये गये है उनको भी जल्द से जल्द प्रारम्भ किया जाये।
इसी क्रम में जिलाधिकारी ने प्रधानमंत्री आवास योजना एंव मुख्यमंत्री
आवास योजना शहरी/ग्रामीण के बारे में जानकारी करते हुये निर्देश दिये कि
अधूरे पड़े आवासों को पूर्ण करंे तथा द्वितीय एंव तृतीय किस्त संबंधित
लाभार्थियांें के खातों में आहरण की कार्यवाही सुनिश्ति की जाये।
उन्होनें संबंधित अधिकारी से नगर पालिका कन्नौज में डाली गई सीवर लाइन के
संबंध मंे जानकारी की, जिसमें संबंधित अधिकारी द्वारा बताया गया कि
कन्नौज में सीवर लाइन डालने का कार्य पूर्ण किया जा चुका है तथा मरम्मत
का कार्य अधूरा होने की वजह से लाइन चालू नही हो पायी है, जिस पर
उन्होनें कड़ी नाराजगी व्यक्त करते हुये अधूरा कार्यों को पूर्ण कर सीवर
लाइन प्रारम्भ की जाये तथा जिस सड़क पर सीवर लाइन हेतु खुदाई की गई है
उन्हें भी दुरूस्त किया जाये। उन्होनें सिचाई विभाग के संबंधित अधिकारी
को निर्देशित करते हुये कहा कि किसानों की फसलों की सिचाई हेतु नहरों तथा
रजवाहों में पानी अन्तिम टेल तक पहॅुचाने की व्यवस्था सुनिश्चित की जाये
तथा पेट्रोलिंग भी की जाये।
उन्होनें 50 लाख से अधिक लागत की निर्माणाधीन परियोजनाओं, पैरा मेडिकल
कालेज, विधि विज्ञान प्रयोगशाला, किसान कल्याण केन्द्र, राजकीय
पालीटेक्निक, राजकीय महिला पालीटेक्निक, बस स्टेशन छिबरामऊ, गुरूसहायगंज,
किसान बाजार, किसान मण्डी, सीएचसी, पीएचसी आदि बडी परियोजनाओं के निर्माण
के संबंध में आवश्यक निर्देश देते हुये कहा कि जो परियोजनायें पूर्ण हो
चुकी है उन्हें हस्तगत करते हुये नियमानुसार संचालन की कार्यवाही
सुनिश्चित की जाये।
तदोपरान्त उन्होनें वृक्षारोपण की तैयारियों के संबंध मंे जानकारी की
जिसमें प्रभागीय वानिकी अधिकारी द्वारा बताया गया कि इस वर्ष 47 लाख
पौधों को रोपित किये जाने का लक्ष्य प्राप्त हुआ है। उन्होनंे बताया कि
इस कार्य हेतु प्रत्येक जनपद स्तर, ब्लाक स्तर, ग्राम पंचायत स्तर पर
नोडल अधिकारी को नामित किया गया है उनको 25 जून 2020 से 30 जून 2020 तक
पौधे उपलब्ध कराये जायेगें। इस पर जिलाधिकारी ने संबंधित नोडल अधिकारियों
को निर्देशि करते हुये कहा कि अनावश्यक पौधों का रोपण न किया जाये तथा
क्षेत्र में छायादार वृक्ष जैसे नीम, पीपल, बरगद, आदि वृक्षों को रोपित
किया जाये, जिससे वायुमण्डल में शुद्धता के साथ आक्सीजन की मात्रा में
वृद्धि हो सके। इस कार्य में किसी भी लापरवाही बर्दाश्त नही की जायेगी।
बैठक मंे प्रभारी मुख्य विकास अधिकारी, मुख्य चिकित्सा अधिकारी, जिला
अर्थ एंव संख्याधिकारी, परियोजना निदेशक, अधिशासी अभियंता विद्युत, जल
निगम, लोक निर्माण निगम आदि संबंधित अधिकारी उपस्थित थे।