नारी शक्ति को सलाम, मशीन चला रोपेंगी धान

रिपोर्ट :- राजू रंजन दुबे बिक्रमगंज रोहतास

बिक्रमगंज (रोहतास)— कृषि विज्ञान केंद्र , बिक्रमगंज में महिलाओं को प्रधानमंत्री रोजगार कल्याण योजना के तहत मशीन से धान रोपनी करने का दिया गया प्रशिक्षण।
रोहतास जिला के बिक्रमगंज अनुमण्डल क्षेत्र में धान की रोपनी बाहर से आए हुए मजदूरों के ऊपर निर्भर है। लेकिन कोरोना महामारी के कारण बाहर से आने वाले मजदूरों की संख्या में काफी कमी देखी जा रही है। इस कमी को पूरा करने के उद्देश्य से स्थानीय कृषि विज्ञान केंद्र ने गरीब कल्याण रोजगार अभियान के अंतर्गत अपने केंद्र पर जिले के विभिन्न प्रखंडों से आए 35 महिलाओं को धान रोपनी मशीन के उपयोग एवं रखरखाव का प्रशिक्षण दिया।

सभी महिलाएं जीविका द्वारा स्थापित कस्टम हायरिंग सेंटर की सदस्यों ने अपने 3 दिनों के प्रशिक्षण के दौरान महिलाओं ने मशीन के विभिन्न कल पुर्जों की जानकारी के साथ-साथ उस में उपयोग होने वाले मैच नर्सरी बनाने की विधि एवं रोकनी कार्य करने में भाग लिया। मशीन से रोपनी कर महिलाओं ने राहत की सांस लेते हुए बोली कि ,वर्षों से चले आ रहा महिलाओं से धान की रोपनी का परम्परा पर विराम लगेगा। अब महिलाओं को इस काम से छुटकारा मिल गया । इससे अपने गांव में रहकर लाखों रुपए कमाया जा सकता है।

केवीके केंद्र प्रधान डॉ रामपाल ने बताया कि अगर महिलाएं इस काम में सफल रही तो धान की खेती में किए जाने वाला सोहनी (निकाई- कोड़ाई) का काम भी आसान हो जाएगा । मशीन से सोहनी होने लगेगी। इस प्रकार जिले में प्रचलित धान – गेंहू की खेती प्रणाली पूरी तरह से यांत्रिक हो जाएंगे। समय की बचत, मजदुरो की संकट दूर तथा लागत में कमी आएगी। समय से कृषि कार्य होंगे पूरा।

मानी गांव की रीना देवी ,भलुनी गांव की पुष्पा तथा सुंदर गांव की माया देवी ने मशीन चला कर खुद से रोपनी किया। उपस्थित लोगों ने महिला को मशीन चलाते देख किया सराहना। मशीन को अपने-अपने समूह में लेने की बात कही। इस अवसर पर महिलाओं (जीविका दीदियों) के अलावा श्री आरके जलज ,रतन कुमार ,श्री प्रवीण पटेल, नवीन कुमार ,राकेश कुमार एवं अन्य स्थानीय लोग उपस्थित थे।