आइसोलेशन बार्ड में एक दिन ही रखा गया कोरोना संक्रमित मरीज, भेजा जा रहा घर

कन्नौज रिपोर्ट धर्मेंद्र सिंह

महिला कांस्टेबल की कोरोना पोस्टिव रिपोर्ट आने के बाद उसे आइसोलेट करने के लिये भेज दिया गया एक दिन रखने के बाद उसे घर भेज दिया गया।जबकि कमसे कम 10 दिन रहकर इलाज होना आवश्यक है।
सौरिख थाने में तैनात महिला कांस्टेबल छुट्टी पर घर गयी थी वापस आकर उसने अपनी सेम्पलिंग करवाई थी ।जिंसमे उसकी रिपोर्ट कोरोना पोस्टिब आयी थी।उसके बाद उसे उपचार के लिये भेज दिया गया जिसको एक दिन बाद वापस भेज दिया गया जबकि कोरोना संक्रमित मरीज को कम से कम 10 दिन तक वँहा रहकर इलाज कराना पड़ता है।उसकेबाद होमकोरेन्टीन करदिया जाता है।सोचने की बात यह है ।की मरीज पोस्टिव था।तो उसे एक दिन बाद क्यो वापस भेज दिया गया।

आइसोलेशन बार्ड में एक दिन ही रखा गया कोरोना संक्रमित मरीज

स्वास्थ्य विभाग द्वारा कोरोना संक्रमित मरीज को एक दिन ही आइसोलेशन बार्ड में रखकर उपचार किया गया दूसरे दिन उसे घर भेज दिया गया।जबकि जिस जगह वह रहती थी उस जगह को प्रसाशन द्वारा अभी भी बेरिकेटिंग कर आवाजाही पर रोक चल रही है।