बालम पोखर में उदयाचल सूर्य के अर्घ के साथ ही छठ पूजा समाप्त

 

राजीव रंजन पाण्डेय(नालंदा)

चार दिवसीय लोक आस्था का पर्व आज उदयाचल सूर्य के अर्घ के साथ हीं समाप्त हो गया। मानपुर थाना के तेतरावां के बालम पोखर(भैरो तालाब) में हजारों छठ व्रतियों ने सूर्य को अर्ग प्रदान किए।

ऐसे हुई छठ पर्व की शुरुआत

कृष्ण के पौत्र राजा साम्ब को जब कुष्ठ रोग से ग्रसित हो गए थे तब नालंदा के बड़गांव तालाब में स्नान और सूर्य उपासना के बाद कुष्ठ रोग से मुक्त हो गए थे। तब से यह सिलसिला जारी है। सूर्य उपासना का उल्लेख महाभारत के कर्ण द्वारा सूर्य उपासना का उल्लेख मिलता है। तब से अबतक यह उपासना का पर्व चलता आ रहा है। सूर्य उदय के पहली किरण को उषा और अस्ताचल सूर्य के अंतिम किरण को प्रत्युषा कहा जाता है।

मनमोहन नाथ समिति द्वारा किया गया आयोजन

छठ पूजा समिति के आयोजक मुन्ना पाण्डेय और रामू यादव ने इस अवसर कहा कि पूजा के दो दिन पूर्व से ही घाट की साफ-सफाई का अभियान चलाया गया। इस कार्य में गांव के युवकों ने विशेष योगदान किया। जिसमें चन्दन यादव,रोहित यादव,राजू सिंह,चंदन सिंह,मोदी यादव,कुंदन कुमार,सोनू कुमार,छोटे यादव सहित अन्य लोगो का विशेष योगदान रहा।

निःशुल्क जलपान का किया गया व्यवस्था

आयोजक रामू यादव ने कहा कि सभी व्रतियों के रसगुल्ला और अन्य घाट पर आए सभी लोगों के लिए दूध के शर्बत और चाय का इंतेजाम किया। कहीं कोई अप्रिय घटना न हो इसके जागरूकता के एनाउंसमेंट की व्यवस्था भी की गई थी।

प्रशासन दिखा मुस्तैद

पूजा में कोई अप्रिय घटना न हो इसके लिए मानपुर थाना द्वारा पुलिस व्यस्था के इंतेजाम किया गया था। थानाध्यक्ष जितेंद्र कुमार ने कहा कि दोनों समय मौके पुलिस का पेट्रोलिंग व घाट पर हर स्थिति से निपटने के लिए हमारी टीम तैयार है। सभी लोग शांति से पूजा करें इसमें प्रशासन का पूरा सहयोग रहेगा।