घण्टों हुए हाजीपुर-महनार-मोहिउद्दीन नगर एसएच 93 जाम 

वैशाली जिला ब्यूरो प्रभंजन कुमार मिश्रा एवं नवीन कुमार की रिपोर्ट

बाद में देसरी थाना अध्यक्ष के हस्तक्षेप के बाद युबक की रिहाई के बाद सड़क जाम समाप्त हो सका।

गुरुवार को हाजीपुर महनार मोहिउद्दीननगर मुख्य मार्ग पर देसरी थाना क्षेत्र के अंतर्गत नयागंज 28 टोला के निकट आक्रोशित लोगों ने घंटों जाम लगा दिया।बताया गया कि लोग एक निर्दोष स्थानीय पिकअप चालक को महनार के एसडीपीओ एवं उनके बॉडीगार्ड द्वारा मारपीट कर पकड़ कर ले जाने से आक्रोशित थे।इस घटना के संबंध में बताया गया कि महनार के एसडीपीओ ने नयागंज 28 टोला निवासी निर्दोष पिकअप चालक रामदयाल राय के पुत्र विनोद कुमार राय को मारपीट करते हुए अपने साथ गाड़ी में बिठा कर ले गए और उसे चांदपुरा ओपी में बंद करा दिया।घटना के संबंध में विनोद कुमार राय के भाई मनोज राय एवं अन्य ग्रामीणों ने बताया कि विनोद राय पिकअप गाड़ी से दलसिंहसराय से सामान गिरा कर लौट रहा था।इसी दौरान महनार बाजार में जाम के कारण उसने एसडीपीओ की गाड़ी को साइड नहीं दिया।इसी बात से एसडीओ आक्रोशित हो गए और पहले तो सुलतानपुर में एक जगह पर जहां विनोद राय गाड़ी लगाकर खड़ा था वहां उनको उसके साथ मारपीट की गई।इसके बाद जब विनोद राय अपने घर के निकट गाड़ी लगाकर सड़क किनारे एक दुकान में चाय पी रहा था तो फिर पीछे से एसडीपीओ वहां पहुंचे और एसडीपीओ के साथ उनके साथ चल रहे अन्य पुलिसकर्मियों ने विनोद राय के साथ मारपीट करना शुरू कर दिया और उसे मारपीट करते हुए अपनी गाड़ी में बिठा लिया और लेते चले गए।स्थानीय लोगों ने जब इसके बारे में उनसे जानना चाहा तो उन्होंने कुछ भी नहीं बताया और उसे अपने साथ लेते गए।इस घटना की सूचना मिलते ही लोग आक्रोशित हो गए और नयागंज 28 टोला के सामने हाजीपुर-महनार-मोहिउद्दीन नगर मुख्य मार्ग एसएक 93 को जाम कर दिया।सड़क जाम होने के कारण गाड़ियों की लंबी कतारें लग गई।आक्रोशित लोग विनोद राय की शीघ्र रिहाई एवं एसडीपीओ के विरुद्ध कार्रवाई की मांग कर रहे थे।घटना की सूचना मिलने पर देसरी थाना अध्यक्ष फैयाज आलम पुलिस पदाधिकारी एवं पुलिस बल के साथ मौके पर पहुंके।पुलिस ने मुखिया अनन्तलाल साह,जितेंद्र कुमार राय एवं अन्य लोगों के सहयोग से सभी को समझा-बुझाकर पहले तो शांत कराया।उसके बाद विनोद राय की रिहाई करते हुए उसे लोगों के बीच पहुचाया गया।इसके बाद सड़क जाम समाप्त हो सका।सड़क जाम में शामिल लोग विनोद राय की गिरफ्तारी से इतने आक्रोशित थे कि वह पुलिस के लिए अब शब्दों की भरमार किए हुए थे।लोगों का कहना था कि यह सीधे-सीधे पुलिसिया गुंडागर्दी है और कुछ नहीं।लोग इस घटना के लिये एसडीपीओ के अहंकार को जिम्मेवार बता रहे थे।


सहदेई बुजुर्ग – देसरी थाना के अंतर्गत नयागंज 28 टोला निवासी निर्दोष पिकअप चालक विनोद राय को महनार के एसडीपीओ और उनके बॉडीगार्ड द्वारा मारपीट कर गिरफ्तार किए जाने की घटना को लेकर राजापाकर विधायक प्रतिमा कुमारी ने इसकी कड़ी निंदा करते हुए इसे बिहार में अफसरशाही का नमूना बताया है।विधायक ने कहा कि पुलिस बेगुनाहों को मारपीट कर बंद करती है।इससे अपराधियों का मनोबल बढ़ रहा है।बेगुनाह और कमजोर लोगों को डराया धमकाया जा रहा है।पुलिस से गुनाहगार पकड़ में आते नहीं हैं और बेगुनाहों को पुलिस गिरफ्तार कर रही है।यह ठीक नहीं है।उन्होंने कहा कि जब उन्हें इस घटना की जानकारी मिली तो उन्होंने एसडीपीओ को फोन किया लेकिन एसडीपीओ ने उनका मोबाइल रिसीव करना भी उचित नहीं समझा।विधायक ने कहा कि पूरा बिहार अफसरशाही से त्रस्त है और यह घटना इसी अफसरशाही का जीता जागता उदाहरण है।