महुआ के सुपौल टरिया पंचायत अंतर्गत मंसूरपुर मिल्की की रहने वाली थी दोनों युवतियां

वैशाली जिला ब्यूरो प्रभंजन कुमार मिश्रा की रिपोर्ट

महुआ के मांगुराही पंचायत अंतर्गत के तरौरा दयालपुर में। जेसीबी से खोदे गए मटखनवा पोखर में दो युवतियों का शव उपलाता देखा गया। जिससे सनसनी फैल गई। शनिवार की दोपहर खेत में फसल देखने के किसान ने दोनों युवतियों का शव दयालपुर गांव स्थित मटखनवा पोखर में उगलता देखा और यह सूचना गांव वालों को दी। यह खबर आग की तरह फैल गई और देखते ही देखते हजारों की संख्या में लोग जुट गए। इस बीच यहा तरह-तरह की चर्चा शुरू हो गया।

पहले तो शव को अज्ञात समझकर लोगों ने सूचना पुलिस को दी। हालांकि बाद में उसकी पहचान महुआ थाना के ही सुपौल टरिया पंचायत अंतर्गत मंसूरपुर मिल्की निवासी राजेश पासवान की पुत्री 18 वर्षीया आरती कुमारी और उसी के बगलगीर मच्छू पासवान की पुत्री 17 वर्षीया निशा कुमारी के रूप में हुई। शव कई दिनों से पानी में डूबे होने के कारण वह फूला था और उससे काफी दुर्गंध आ रही थी। इसके कारण लोग दूर भाग रहे थे। पुलिस के पहुंचने पर उपलाते दोनों शवों को पानी से निकाला गया। शव निकलते ही मृतिका के परिजन उससे लिपटकर रोने लगे।

बीते 2 जनवरी से ही गायब थी दोनों सहेलियां:

महुआ। महुआ के तरौरा दयालपुर गांव स्थित जेसीबी से खोदे गए मटखनवा पोखर में मिले दोनों युवतियों के पिताजी द्वारा महुआ थाना में उसे अपहरण करने का आवेदन दिया गया था। उन्होंने अपने बगलगीर आधा दर्जन लोगों पर उसे भगा ले जाने की प्राथमिकी दर्ज कराई थी। इस बीच दोनों युवतियों का पायल और मोबाइल घटनास्थल के पास से उक्त दिन खोजबीन के दौरान बरामद की गई थी। यह भी आशंका जताते हुए कि कहीं इस गड्ढे में डूब गई होगी तो ग्रामीण गोताखोरों द्वारा खोजबीन कई की गई थी लेकिन कुछ पता नहीं चला था। इस बीच दोनों युवती आरती और निशा का एक साथ उपलाता शव उक्त स्थान पर पाया गया।

बस्ती की कई लड़कियों के साथ जलावन लाने गई थी आरती और निशा:

घटनास्थल पर बताया गया कि दोनों युवती आरती और निशा बीते 2 जनवरी को बस्ती के कई लड़कियों के साथ उक्त चवड़ स्थित सुनसान जगह पर जलावन काटने गई थी। जबकि सारी लड़कियां घर चली आई और दोनों नहीं लौटी। यह सूचना युवतियों के पिता द्वारा पुलिस को दी गई थी और पुलिस उसकी खोज करने के लिए पहुंची थी। इस बीच दोनों का पायल और मोबाइल तो मिला था।

आठवां में पढ़ती थी दोनों सहेलियां:

महुआ। ग्रामीणों और परिजनों ने बताया कि मृतिका आरती और निशा आठवां क्लास में पढ़ती थी। दोनों एक साथ ही स्कूल जाती थी। इस तरह दोनों जलावन काटने के लिए चवड़ में बीते 02 जनवरी को पहुंची पर नहीं लौटी। दोनों मृतिका के पिताजी मजदूर हैं और उनके कमाई से ही घर परिवार चलता है। राजेश पासवान की पुत्री आरती चार भाई और तीन बहनों में सबसे छोटी थी। मां कैला देवी गृहिणी है। भाई वीरेंद्र पासवान, रविंद्र पासवान, लखींद्र पासवान और कवि पासवान घर पर रहते हैं। बड़ी बहन, पूनम और खुशबू है। जबकि मच्छु पासवान की पुत्री निशा चार बहन और दो भाई में सबसे बड़ी थी। छोटी बहन नेहा, संजीवन, खुशी, भाई आयुष और गोलू इस घटना से काफी मर्माहत थे। निशा की मां का निधन एक वर्ष पूर्व हो गई थी। दोनों मृतिका के परिजन इसे हत्या करार दे रहे थे। उन्होंने पुलिस को बताया कि आरती और निशा की हत्या कर दी गई और शव को पानी में फेंक दिया गया। इधर इस घटना को प्रेम प्रसंग से भी जोड़कर लोग देख रहे थे। यहां जितने मुंह उतनी बातें हो रही थी। हर लोग अपने-अपने तरह से मौत होना बता रहे थे।