बकरी शेड निर्माण को लेकर दर दर की ठोकर खा रही महिला

अरवल जिला ब्यूरो चीफ संवाददाता बीरेंद्र चंद्रवंशी की रिपोर्ट

कुर्था अरवल, राज्य सरकार द्वारा बेरोजगारों को रोजगार मुहैया कराने के उद्देश्य से राष्ट्रीय ग्रामीण रोजगार गारंटी योजना के तहत विभिन्न योजनाओं का कार्यान्वयन की जा रही है ताकि बेरोजगार व शिक्षित महिला व युवतियों के बीच रोजगार के साधन उपलब्ध हो सके परंतु हैरत इस बात की है कि महज एक बकरी शेड निर्माण को लेकर एक महिला दर दर की ठोकर खा रही है। बावजूद अब तक उसे बकरी शेड निर्माण की राशि मुहैया नहीं की जा सकी इस बाबत कुर्था प्रखंड क्षेत्र के खेमकरण सराय पंचायत के जिन्नत प्रवीण नामक महिला जो विगत कई माह पूर्व बकरी शेड निर्माण को लेकर प्रखंड कार्यक्रम पदाधिकारी के यहां आवेदन दी थी परंतु अब तक उन्हें बकरी शेड निर्माण की राशि मुहैया नहीं की जा सके इस बाबत महिला जिन्नत प्रवीण ने प्रेस बयान जारी कर बताया कि हमने कई बार प्रखंड कार्यक्रम पदाधिकारी से लेकर कई अधिकारियों के चक्कर लगाए हालाकी आवेदन दिए हुए कई माह बीत गए परंतु अब तक हमें बकरी शेड निर्माण की राशि निर्गत नहीं हो सका है। जिसके वजह से किसी तरह इस कड़ाके की ठंड में बकरी को रखना पड़ रहा है जबकि राज्य सरकार का यह महत्वाकांक्षी योजना बकरी शेड निर्माण जिसके बूते बकरी पालन कर स्वाबलंबी बनना चाहती हूं परंतु अधिकारियों की लापरवाही का नतीजा है कि अब तक हमें बकरी शेड निर्माण की राशि भी नहीं मिल सकी है पूछे जाने पर प्रखंड कार्यक्रम पदाधिकारी गोल मटोल जवाब देकर हमे टहलाते हैं कभी यह उन पर आरोप लगाते हैं तो कभी वह उन पर आरोप लगाते हैं मानो अधिकारियों के इस लापरवाही और गैर जिम्मेदाराना हरकत से हम काफ़ी मर्मआहत हैं।

 

क्या कहते हैं अधिकारी

 

पीटीआई को लगातार निर्देश दी जा रही है कि यथाशीघ्र बकरी शेड निर्माण की राशि मुहैया कराई जाए परंतु उनके द्वारा विलंब किया जा रहा है मैं अपने अस्तर से पीटीआई व जेई को बुलाकर मामले का निष्पादन कराता हूं

राजीव मृणाल, प्रखंड कार्यक्रम पदाधिकारी कुर्था