जिलाधिकारी ने बैठक कर मनरेगा, जल-जीवन-हरियाली आदि योजनाओ का किया समीक्षा।

रिपोर्ट रवि कुमार सीतामढ़ी 

●कई प्रखंडो के पीओ ने पावर पॉइंट प्रजेंटेशन के द्वारा मनरेगा अंतर्गत अपने कार्यो को फोटो ग्राफ के साथ दिखाया।

●जिलाधिकारी ने उनकी प्रस्तुति का किया सराहना

मनरेगा के तहत जिले में तालाब,खेतपोखरी,चौड़, विद्यालयो में किचेन शेड आदि के निर्माण की अपार संभावनाएं। 

मनरेगा के तहत पुनौरा पुण्डरीक तालाब के पास शमशान में बनेगा प्लेटफॉर्म। 

 

सीतामढ़ी/ जिलाधिकारी की अध्यक्षता में समाहरणालय स्थित परिचर्चा भवन में मनरेगा, जल-जीवन-हरियाली आदि योजनाओ की समीक्षा बैठक आयोजित की गई। मनरेगा योजना के समीक्षा के क्रम में परसौनी, सोनवर्षा, डुमरा, बथनाहा, रुन्नीसैदपुर आदि में लक्ष्य के विरुद काफी कम मानव दिवस का सृजन पाया गया। जिलाधिकारी ने कहा कि मनरेगा का मुख्य उद्देश्य अधिक से अधिक मानव दिवस का सृजन कर ज्यादा से ज्यादा लोगो को रोजगार देने है। उन्होंने कहा कि यह भी ध्यान रखे कि ससमय भुगतान भी हो। पंचायतवार मजदूरों को रोजगार उपलब्ध करवाने में नानपुर का सबसे निम्न प्रदर्शन पाया गया। ससमय भुगतान में बथनाहा, रुन्नीसैदपुर, बैरगनिया का प्रदर्शन सबसे कम पाया गया। जिलाधिकारी ने निर्देश दिया कि मानव दिवस सृजन में निम्न प्रदर्शन वाले पीआरएस के विरुद करवाई करे। जिलाधिकारी ने निर्देश दिया कि मनरेगा योजना अंतर्गत आंगनबाड़ी के निर्माण में तेजी लाकर शत प्रतिशत लक्ष्य को पूरा करे। उन्होंने कहा कि सभी पीओ क्षेत्र भ्रमण कर चल रही योजनाओ का स्थल निरीक्षण करें। उन्होंने कहा कि जब भी मैं क्षेत्र भ्रमण पर जाऊंगी तो संबधित क्षेत्र के पीओ एवम पीआरएस भी साथ रहेंगे ताकि चल रही मनरेगा योजनाओ का निरीक्षण किया जा सके। उन्होंने कहा मनरेगा अंतर्गत तालाब निर्माण,खेत पोखरी का निर्माण,चौड़,विद्यालयो में किचेन शेड को भी सर्वोच्च प्राथमिकता में रखे।जिलाधिकारी के निर्देश पर डुमरा,मेजरगंज बेलसंड,परिहार के पीओ ने पावर पॉइंट प्रजेंटेशन के माध्यम से अपने-अपने प्रखंडो में मनरेगा के तहत अच्छे कार्यो की बेहतरीन प्रस्तुति दिया। जिलाधिकारी द्वारा बेलसंड पीओ द्वारा बाढ़ग्रस्त क्षेत्रो में शमशान भूमि में प्लेटफॉर्म निर्माण कार्य की सराहना किया। उन्होंने डुमरा पीओ को निर्देश दिया कि पुनौरा पुण्डरीक तालाब के पास शमशान भूमि के पास भी प्लेटफॉर्म का निर्माण करें।विद्यालयो में बच्चों के लिए किचेन शेड, विद्यालयो की चाहदीवारी आदि कार्यो की भी डीएम ने सराहना किया।उन्होंने जल-जीवन-हरियाली अभियान अंतर्गत चल रही योजनाओ का भी समीक्षा किया। उन्होंने निर्देश दिया हर हाल में अविलम्ब अतिक्रमित जल स्रोतों को अतिक्रमण मुक्त करवाये।उन्होंने अतिक्रमित जल स्रोतों के विरुद अंचलवार की गई करवाई का विस्तृत प्रतिवेदन उपलब्ध करवाने का निर्देश दिया।उन्होंने उपस्थित कार्यपालक अभियंता विधुत को निर्देश दिया कि सौर ऊर्जा को प्रोत्साहित करने को लेकर सरकार की योजनाओ का प्रचार प्रसार करे एवम अनुदानित दर पर इच्छुक लोगों को सौर ऊर्जा प्लांट लगाना सुनिश्चित करे। उक्त बैठक में डीडीसी तरनजोत सिंह(भा0प्र0 से0) अपर समाहर्ता विभागीय जाँच, निर्देशक डीआरडीए, डीपीआरओ, सभी मनरेगा पीओ, सीओ आदि उपस्थित थे।