सब इंस्पेक्टर की निगरानी में रखी गई शराब सांठगांठ कर बेचा गया

हापुड़ से विशु अग्रवाल की रिपोर्ट

जहरीली शराब बनाने वाले केमिकल को अपराधियों से सांठगांठ कर जनपद में तैनात एक सब इंस्पेक्टर ने बेच दिया जोकि एसपी के आदेश पर उसकी निगरानी में रखा गया था। मामला संज्ञान में आने पर आईजी मेरठ जोन के आदेश पर आरोपी को मेेरठ एसओजी टीम ने गिरफतार कर लिया वहीं जनपद हापुड़ एसपी नीरज जादौन को भी आदेश कर मुकदमा दर्ज कर जांच करके मामले का खुलासा करने के आदेश दिये है। मामला थाना धौलाना क्षेत्र के यूपीएसडीसी चैकी से जुडा हुआ है। जिस पर तैनात चैकी प्रभारी ब्रजेश यादव पर दर्जनों ड्रम इथाईल एल्कोहल शराब माफियाओं को बेचने का आरोप लगा हैं। बता दें जनवरी 2019 में धौलाना पुलिस ने गाजियाबाद पुलिस की इनपुट यूपीएसआईडीसी चैकी क्षेत्र से 120 ड्रम ईथाईल एल्कोहल कीमत लगभग डेढ करोड़ रूपये थी के साथ 4 आरोपी, विनोद , वाहिद, सीमा गुप्ता, व आमिर को गिरफतार किया था। जोकि पंजाब से तस्करी कर अवैध शराब निर्माण के लिए लाया गया था ।

मोटी रकम के लालच में चैकी प्रभारी ने सांठ गांठ कर दर्जनों ड्रम शराब माफियाआंे को बेच दिये मामले का खुलासा तब हुआ जब मेरठ पुलिस ने गांव जघेंठी के जंगल में एक गाडी जिसमें 1600 ली0 जहरीली शराब थी को पकडकर दो आरोपी भी दबोचे । सख्ती से पूछताछ में दोनो ने अपने नाम इरफान व आसिफ बताये व पकडा गया केमिकल धौलाना चैकी के एक दरोगा से सांठ गांठ कर खरीदना बताया मेरठ पुलिस ने जिसकी सूचना हापुड़ पुलिस को दी तो मामले ने तूल पकड़ा तुरन्त मेरठ जोन आईजी ने जांच कर कार्यवाही के आदेश दिये ।

बताते चलें आरोपी दरोगा को 14 जनवरी को ही चैकी प्रभारी के पद से स्थानांतरण कर थाना बाबूगढ में तैनात किया गया है। जिसने मंगलवार तक थाने में चार्ज नहीं लिया जिसे रात्रि मंे मेरठ पुलिस द्वारा गिरफतार किया गया । एसपी हापुड़ नीरज जादौन ने बताया कि आरोपी दरोगा पर मुकदमा पंजिकृत कर निलंबन की कार्यवाही करते हुये कोर्ट में पेश किया जा रहा है। जिसकी जांच सात रोज में पुलिस क्षेत्राधिकारी विभाग को पेश करेंगे। आरोपित दरोगा बृजेश यादव।