Breaking News

मुहल्ला क्लास चला कर बच्चो को निशुल्क शिक्षा दे रही नूतन

विगत वर्षों से लॉकडाउन के वजह से बच्चों की पढ़ाई हो रही है प्रभावित


अरवल जिला ब्यूरो संवाददाता वीरेंद्र चंद्रवंशी की रिपोर्ट

कुर्था अरवल, कोरोनावायरस जैसी वैश्विक महामारी के दौरान लगातार विगत 2 वर्षों से राज्य सरकार व केंद्र सरकार के निर्देश पर लगाए गए लॉकडाउन के बजे से खासकर छोटे-छोटे स्कूली बच्चों के पढ़ाई खासा प्रभावित हो रहे हैं ऐसे में बच्चे पढ़ाई के अभाव में इधर-उधर भटकते देखे जा रहे हैं।

 हालांकि कुर्था बीच बाजार के मोहल्ले में इन दिनों कोरोनावायरस जैसी वैश्विक महामारी के दौरान स्कूल बंद के बाल भटक रहे बच्चों के लिए मोहल्ले के नूतन कुमारी द्वारा बच्चों को निशुल्क शिक्षा देने के उद्देश्य से मोहल्ला क्लास चला रही है जहां पढ़ाई के बगैर मोहल्ले में घूम रहे बच्चों को एक जगह बैठा कर उन्हें शिक्षित करने का भरसक प्रयास कर रही है।

 प्रतिदिन मोहल्ले के दर्जनों बच्चों को एक जगह बैठा कर उसे बेसिक ज्ञान देखी देखी जा रही है इस बाबत मोहल्ले क्लास के संचालक नूतन कुमारी ने बताया कि लोगों की वजह से छोटे-छोटे बच्चों के स्कूल बंद हो गए हैं ऐसे में बच्चों को पढ़ाई खासा प्रभावित हो रही है बच्चों को बेसिक ज्ञान देने के उद्देश्य से हमने मोहल्ले में है मोहल्ला क्लास का शुरुआत किया है यहां मोहल्ले के दर्जनों बच्चों को एक जगह बैठा कर निशुल्क शिक्षा दे रहे हैं ऐसे में कोरोनावायरस जैसी वैश्विक महामारी के दौरान हमारा भी समय व्यतीत हो जा रहा है और बच्चे भी जो पढ़ाई के बगैर इधर उधर भटक रहे थे।

 वैसे बच्चों को भी शिक्षा मुहैया हो रही है हालांकि उन्होंने कहा कि प्रतिदिन मोहल्ले के दर्जनों बच्चे मेरे मोहल्ले क्लास मैं उपस्थित होकर निशुल्क शिक्षा ग्रहण कर रहे हैं ना कि उनके माता-पिता भी कोरोनावायरस जैसी वैश्विक महामारी के दौरान बंद स्कूल के बाद चल रहे मोहल्ले क्लास से काफी खुशी महसूस कर रहे हैं बच्चे के अभिभावकों ने बताया कि लॉकडाउन के वजह से विगत दो वर्षों से बच्चों की पढ़ाई खासा प्रभावित हो रही है ऐसे में मोहल्ले के हैं नूतन कुमारी ने मोहल्ले के बच्चों को निशुल्क शिक्षा ग्रहण करवाने के उद्देश्य से मोहल्ला क्लास चला रहे हैं।

 जिससे हम लोगों को काफी राहत महसूस भी हो रही है हालांकि मोहल्ले क्लास के संचालक को कुछ बच्चे की अभिभावक उन्हें खुश नामा के तौर पर ₹20 व ₹50 तक की राशि भी खर्च के नाम पर मोहल्ले क्लास के संचालक को जब कभी दे भी देती है हालांकि उन्होंने बताया कि मेरा उद्देश्य है कि लॉकडाउन के दौरान जो बेकार घूम रहे बच्चे हैं उनमें निशुल्क शिक्षा ग्रहण कराउ ताकि बच्चे का भी समय व्यतीत हो और मेरा भी समय निकल जाए मोहल्ले क्लास के आयोजनों से मोहल्ले वासी काफी खुश दिख रहे हैंं।

कोई टिप्पणी नहीं

Type you comments here!