Breaking News

महुआ-हाजीपुर सड़क को पानापुर कनकट्टा चौक के पास तीन घंटे तक जाम कर किया हंगामा


वैशाली जिला ब्यूरो संवाददाता प्रभंजन कुमार मिश्रा की रिपोर्ट

 बारिश और नहर के पानी से बाढ की विभीषिका झेल रहे पीड़ितों ने उबकर महुआ-हाजीपुर सड़क को पानापुर कनकट्टा चौक के पास जाम कर दिया। यहा पानी से उपलाए कन्हौली धनराज पंचायत के विभिन्न गावों के लोगों ने एसएच 49 को 3 घंटे तक जाम कर बवाल मचाया। 

बारिश और घागरा नहर की पानी से तबाही में जी रहे कन्हौली धनराज पंचायत के बिशनपुरा, महादेव मठ, फतेहपुर चौथाई, पानापुर के महिला पुरुष सैकड़ों की संख्या में उक्त स्थान के पास पहुंच गए और सड़क पर ही टेंट लगाकर खाना बनाना शुरु कर दिया। इस बीच गुस्साए लोगों ने सड़क पर आवागमन रोक दी और जमकर बवाल मचाया। उनका कहना था कि उन गांवों के अलावा अलावा शेमोपट्टी, पताढ, डुमरी, असोई, दोहजी, मुकुंदपुर, बोअरिया आदि गांव जी बारिश और घाघरा नदी पानी से बाढ़ की विभीषिका झेल रहा है। लोगों को घर से निकलने का जगह नहीं है। इस समय उन्हें खाना बनाने में दिक्कत होती है। किचन से लेकर शौचालय और पूरा घर पानी में डूबा हुआ है। महिलाओं को तो इस समय शौच जाने में भारी परेशानी हो रही है। उनका कहना था कि वे लोग भूखे पेट सो रहे हैं। जबकि ना तो कोई जनप्रतिनिधि देखने पहुंच रहे हैं ना कोई पदाधिकारी। गुस्साए लोगों का कहना था कि जल जमाव की समस्या से निजात दिलाने के लिए उन्होंने पूर्व में पदाधिकारियों को आवेदन दिया। लेकिन उनकी बातों को अनसुनी की गई। यहां तक कि जब वे लोग अंचल और प्रखंड कार्यालय पहुंचे तो डांट डपटकर भगा दिया गया। इससे महिलाएं काफी तैश में थी। मौके पर पहुंचे सीओ अमर सिन्हा को तो बाढ पीड़तों का भारी आक्रोश झेलना पड़ा। महिलाओं ने तो उन्हें काफी देर तक बंधक भी बनाया रखा। थानाध्यक्ष कृष्णानंद झा भी दल बल के साथ पहुंचे। गुस्साए लोगों ने सीओ और थानाध्यक्ष को गांव ले जाकर अपने स्थिति से अवगत कराया 

ग्रामीण सड़क पर पुलिया नहीं होने से जमा है पानी:

सड़क पर बैठे सनी कुमार, शिव कुमार राम, श्याम नंदन राम, कमलेश राम, विजय राम, मोहन राम, राम बाबू राम, ललिता देवी, रंजू देवी, शिव कुमारी देवी, ममता देवी, आशा देवी, फुल कुमारी देवी, सिंदू देवी, आशा कुमारी, रूपेश कुमार आदि दर्जनों लोगों ने बताया कि उनका इलाका बारिश और घाघरा नहर के पानी से पूरी तरह जलमग्न हो चुका है। कच्चे मकान सलका लगकर गिर रहे हैं। झोपड़ियां उलट गई है। अब उन लोगों को रहने के साधन नहीं है। पीड़ितो ने बताया कि कनकटा चौक से महादेव मठ तक जाने वाली ग्रामीण सड़क में पुलिया नहीं होने कारण पानी का बहाव नहीं होता है। जिससे एक इलाका में तो पानी लोगों को भारी तबाही मचा रखी है। एक दो पुलिया थी भी वहां घर बना दिया गया। जिससे पानी का बहाव नहीं हो रहा है। लोगों ने अपने डूबे हुए घर को दिखाते हुए बताया कि उनके बच्चे भूखे पेट सो रहे हैं। वे लोग घर छोड़कर आसपास में शरण लेना चाहते हैं लेकिन कोई भी ऐसा जगह बचा हुआ नहीं है जहां पानी नहीं हो। सबसे ज्यादा समस्या शौच की हो रही है। इधर गुस्साए लोगों ने सीओ को इस विकट समस्या से निदान दिलाने की मांग की। पीड़ितों ने थानाध्यक्ष और सीओ को काफी देर तक बाढ़ की विभीषिका वाले क्षेत्र में घुमाते रहे।

पंचायत प्रतिनिधि और समाजसेवियों ने सड़क पर उतरे लोगों का किया समर्थन:

जलजमाव और बाढ़ की समस्या से तबाही का मंजर झेल रहे पीड़ितो के समर्थन में पंचायत प्रतिनिधि और समाजसेवी भी उतरे। लोगों ने कहा कि एक इलाका बाढ की भीषण में दंश झेल रहा है। जबकि उनका कोई सुनने वाला नहीं है। मौके पर पहुंचे कन्हौली धनराज पंचायत के मुखिया सीमा देवी के पति रविंद्र कुमार, समाजसेवी डॉ राजकिशोर राय, चंदन पासवान, पैक्स अध्यक्ष अभिमन्यु कुमार सिंह उर्फ पप्पू आदि ने भी बताया कि एक इलाका बाढ़ का भीषण दंश झेला है। लोगों को घर में रहने की जगह नहीं है। खाना बनाना और शौच के लिए तो उन्हें सोचना पड़ता है। वे लोग डेढ़ महीने से इस संकट में हैं लेकिन कोई देखने सुनने वाला नहीं। उन्होंने कहा कि करीब 800 परिवार इस समय यहां जल संकट का दंश झेल रहे हैं। इधर 3 घंटे तक सड़क जाम रहने के कारण दोनों ओर गाड़ियों की लंबी कतारें लगी रही। जाम में फसे कुछ लोग तो गाड़ी से उतर कर पैदल ही गंतव्य स्थान।

कोई टिप्पणी नहीं

Type you comments here!