Breaking News

बंद पड़े पुल, पुलिया, नाला खोलकर जल्द जलनिकासी हो अन्यथा आंदोलन- ऐपवा

राम कुमार ब्युरो चीफ समस्तीपुर 




जलमार्ग अवरूद्ध करने वालों पर एफआईआर से कम मंजूर नहीं :- आशिफ होदा


ताजपुर (समस्तीपुर) : थाना पर सर्वदलीय बैठक के बाद जलनिकासी कराने को निकले ताजपुर बीडीओ मनोज कुमार, पुलिस, सर्वदलीय नेताओं माले के सुरेन्द्र प्रसाद सिंह, मो० एजाज, सामाजिक कार्यकर्ता जीतेंद्र कुमार, कांग्रेस के अब्दुल मालिक, राजद के मो० आफो, मो० मनौअर, भाकपा के राम प्रीत पासवान, पत्रकार विजय केशरी, ट्रेक्टर ऐजेंसी संचालक संजय कुमार राय, जल जमाव पीड़ितों की उपस्थिति में हास्पिटल रोड में सरकार जमीन में बने बंद पड़े पुलिया को जेसीबी से काटकर खोलने से एक महिला द्वारा विरोध कर पूरजोर तरीके से रोक दिया गया । काफी समझाने के बाद भी महिला सरकार जमीन को खोदकर नाला निकालने देने को तैयार नहीं हुई । स्थानीय लोगों ने बताया कि महिला मकान निर्माण के समय सरकारी पुलिया को बंद कर दी थी इसे लेकर हंगामा खड़ा हो गया । नेताओं के साथ पुलिस एवं सैकड़ों लोगों की उपस्थिति में बीडीओ मनोज कुमार ने कई बार महिला को माताजी बोलते हुए हाथ जोड़ा लेकिन महिला पुलिया खोदने नहीं दी इस दौरान करीब दो फीट गड्ढ़ा किया गया इससे पुलिया दिखाई नहीं दिया । महिला अंत तक जेसीबी के समक्ष खड़ी रही. अंत में वक्त की नजाकत को देखते हुए सोमवार को करीब 11-30 बजे रात्री में खोदाई बंद कर दिया गया. इस तरह सरकारी जमीन को नहीं खोदने देकर सैकड़ों परिवारों को जल प्लावित किये रहने एवं बीडीओ की गुहार को महिला द्वारा अनसुनी कर देने की घटना के बाद जल निकासी शुरू नहीं होने से लोगों में आक्रोश व्याप्त है । इस संदर्भ में महिला अधिकार कार्यकर्ता सह ऐपवा जिलाध्यक्ष बंदना सिंह ने कहा कि वे पांडे पोखर में मिट्टी भराई में भ्रष्टाचार के खिलाफ लूट का तमाम सबूत लेकर भाकपा माले के प्रखण्ड पर धरना में शामिल होने पर अन्य लोगों समेत उन पर बीडीओ मनोज कुमार द्वारा मुकदमा कर जेल में डालने का रास्ता साफ कर दिए जबकि एक महिला जो जलनिकासी का सरकारी रास्ता रोके हुई हैं, उनको बीडीओ द्वारा हाथ जोड़कर आरजू-मिन्नत. एक महिला को जेल और एक महिला को षष्टांग दण्डवत, यह कैसा न्याय है. बाजार क्षेत्र में यह चर्चा का विषय है । ऐपवा नेत्री ने बीडीओ, सीओ, पुलिस से सख्ती बरतकर तमाम बंद पड़े सरकारी पुल, पुलिया, नाला आदि खोलवाने अन्यथा जलकैदी बने सैकड़ों पीड़ितों के साथ मिलकर आंदोलन तेज करने की घोषणा की है । पैक्स अध्यक्ष सह इनौस नेता आशिफ होदा ने कहा कि सरकारी पुल, पुलिया, नाला बंद करने वालों को बीडीओ द्वारा हाथ जोड़ने से दबंगों का मतलब बढ़ेगा और जल जमाव पीड़ितों को मुक्ति नहीं मिलेगी सरकारी जमीन पर कब्जा जमाकर जलमार्ग को बाधित करने वालों पर एफआईआर दर्ज करें प्रखण्ड प्रशासन ।

कोई टिप्पणी नहीं

Type you comments here!