Breaking News

डेयरी फार्मिंग एवं वर्मी कंपोस्ट मेकिंग का दस दिवसीय प्रशिक्षण शुरू


वैशाली जिला ब्यूरो प्रभंजन कुमार मिश्रा की रिपोर्ट

हाजीपुर(वैशाली)श्री धर्मस्थला मंजुनाथेश्वर शिक्षण ट्रस्ट व केनरा बैंक प्रायोजित रूडसेट संस्थान में डेयरी फर्मिंग व वर्मी कम्पोस्ट मेकिंग हेतु 2 बैचों का 10 दिवसीय प्रशिक्षण कार्यक्रम की शुरुआत हुई।इस प्रशिक्षण कार्यक्रम में जिले के विभिन्न भागों से 53 लोग भाग ले रहे हैं। प्रशिक्षण कार्यक्रम का शुरुआत प्रशांत कुमार,वरीय शाखा प्रबंधक केनरा बैंक एसएमई शाखा हाजीपुर ने दीप प्रज्वल्लित कर किया।

प्रशिक्षणार्थियों को सम्बोधित करते हुए प्रशांत कुमार वरीय शाखा प्रबंधक केनरा बैंक एसएमई शाखा हाजीपुर ने कहा कि उद्यम प्रबन्धन कहता है कि उद्यम वही शुरु करें जिसकी मांग सदैव बनी रहे और आप सबों ने डेयरी व वर्मी कम्पोस्ट को अपने उद्यम के रुप में चुनकर सही किया है जिसकी मांग हर समय में बनी रहती है।उन्होनें कहा कि कृषि से जुड़े स्वरोजगार में डेयरी फार्मिंग व वर्मी कम्पोस्ट का कार्य रो़जगार के अपार अवसर व संभावनाओं से भरा पड़ा है।उन्होंने कहा आज रासायनिक खाद व अन्य पेस्टिसाइड के प्रयोग से भूमि की उर्वरक क्षमता घटते जा रही है और कई तरह की बीमारियाँ भी उत्पन्न हो रही हैं।इसलिए स्वस्थ जीवन और भविष्य में मिट्टी की उर्वरता को संरक्षित रखने और इसकी निरन्तरता को बनाये रखने के लिए जीवांश खादों की नितान्त आवश्यकता है।जीवांश खादों में केंचुआ खाद (वर्मीकम्पोस्ट) का विशिष्ट स्थान है क्योंकि इसे तैयार करने की विधि सरल तथा गुणवत्ता काफी बेहतर होती है।वास्तव में यह वर्तमान समय की मांग है।

उन्होंने कहा कि किसी भी चीज की शुरुआत करने में कई नयी कठिनाइयों का सामना करना होता है लेकिन डेयरी व वर्मी किसानों हेतु किसी भी अन्य विकल्पों मे आसान व लाभकारी व्यवसाय है साथ में प्रशिक्षणार्थियों को प्रोत्साहित करते हुए उन्होंने यह भी कहा कि बैंकों को भी अच्छे उद्यमियों की तलाश है ताकि उन्हें ऋण की सुविधा से जोडा जा सके।रुडसेट हमें प्रशिक्षित उद्यमी उपलब्ध करा रहा है तो बैंक भी उन्हें उद्यम को शुरु करने में मदद करेगी।इस अवसर पर संस्थान के निदेशक संजीत कुमार ने कहा कि प्रशिक्षण के दौरान प्रशिक्षणार्थियों को सफल उद्यमी के गुण के साथ-साथ डेयरी फार्मिंग एवं वर्मी कंपोस्ट विषय यथा पशु का पोषण आहार एवं उसकी खुराक, पशुओं से जुड़ी बीमारियों एवं उसके समाधान,पशुओं को खिलाई जाने वाले विभिन्न चारे की फसल,पशु शेड बनाने का तरीका एवं उसका प्रबंधन, बछड़ा पालन एवं रखरखाव इत्यादि पर विस्तृत जानकारी दी जाएगी।

 उन्होनें सभी प्रशिक्षणार्थियों को प्रेरित करते हुए कहा कि संस्थान सिर्फ प्रशिक्षण देने का ही कार्य नहीं करती है बल्कि उन्हें भविष्य में मार्गदर्शित करने का भी कार्य करती है ताकि उन्हें पूर्ण रुप से आत्मनिर्भर बनाया जा सके।मौके पर अजीत कुमार वरीय संकाय सदस्य ने मंच संचालन किया तथा संकाय सदस्य ठाकुर सोनु कुमार सिंह ने अतिथियों के प्रति धन्यवाद ज्ञापित किया।इस अवसर पर ऋषी कुमार केनरा बैंक एसएमई शाखा हाजीपुर,विनोद कुमार सिंह,वरीय कार्यालय सहायक व मोहबी कुमार कार्यालय सहायक रुडसेट संस्थान भी मौजूद थे।

कोई टिप्पणी नहीं

Type you comments here!