Breaking News

कुर्था की बेटी राज्य स्तर पर खेलेगी क्रिकेट, महिला सशक्तिकरण की मिसाल पेश कर रही शिखा


अरवल जिला ब्यूरो वीरेंद्र चंद्रवंशी की रिपोर्ट

कुर्था अरवल, मंजिले उन्ही को मिलती है जिनके कदमों में जान होते हैं पंखों से कुछ नहीं होता हौसलों से उड़ान होते हैं। जी हां यह युक्ति को सत्य कर दिखलाया है अरवल जिले के विष्णुबीघा गांव निवासी अर्जुन सिंह की पुत्री शिखा कुमारी ने जिन्होंने ग्रामीण परिवेश में होते हुए भी अपने दिल में क्रिकेट के प्रति हमेशा जुनून को जगा कर रखा जब देश स्तर पर बेटियां क्रिकेट खेल देश व राज्य का नाम रोशन कर रही थी।

 तभी उन्होंने ठाना कि अपना कैरियर हम क्रिकेट के क्षेत्र में ही बनाएंगे और इसी सपनों के साथ वह लग गई क्रिकेट की दुनिया में और लगातार गांव के खेत खलिहान उसे लेकर गली कुची में क्रिकेट खेल आज राज्य स्तर पर क्रिकेट खेल कर अपना पहचान स्थापित करेगी हालांकि इस संबंध में शिखा कुमारी ने बताया कि ग्रामीण परिवेश के वजह से प्रारंभिक क्षण में कई प्रकार की बाधाएं आई पर उन बाधाओं को मैं नजरअंदाज कर सिर्फ क्रिकेट के प्रति अपना ध्यान आकृष्ट किया हालांकि इस दौरान उनके किसान पिता ब गृहणी माता समेत परिवार का काफी सहयोग मिला और तब से हमने कभी पीछे मुड़कर नहीं देखा और गांव के खेत खलिहान से क्रिकेट जीवन की शुरुआत करते-करते कई जगहों पर क्रिकेट खेल अपना जीत का परचम लहराया जहां उनका बेहतर प्रदर्शन देखकर सभी लोग उनकी प्रशंसा करते थकते नहीं थे तथा लोगों ने शिखा को खूब सराहा आज उसी का प्रतिफल है बिहार महिला अंडर-19 बिहार क्रिकेट टीम ग्रुप के लिए चयन किया गया है उक्त बातों की जानकारी देते हुए अरवल जिला क्रिकेट संघ के जिला अध्यक्ष राहुल कुमार व क्रिकेट संघ के जिला सचिव योशिता पटवर्धन ने संयुक्त रूप से बताया कि शिखा कुमारी के दिलों में क्रिकेट के प्रति काफी जुनून देखा गया है और उनके लग्न व परिश्रम को देखकर ऐसा लगता है की शिखा एक दिन देश का नाम अवश्य रोशन करेगी।

 इस बाबत शिखा ने बताया कि हमारी बचपन से इच्छा थी कि मैं कुछ अलग और कुछ बेहतर करूं जब मैं बाल्यावस्था से युवावस्था में पहुंचा तो अक्सर देखा करती थी कि देश की बेटियां देश के लिए विभिन्न क्षेत्रों में अपना परचम लहरा रही है तभी से मैंने निश्चय किया कि मैं भी एक दिन कुछ बेहतर व अलग करूंगा तभी मैंने क्रिकेट खेलना प्रारंभ किया हालांकि ग्रामीण परिवेश के वजह से कई प्रकार की बाधाएं तो आई लेकिन मैंने उन बाधाओं को पार कर क्रिकेट में ही अपना कैरियर बनाने की ठान ली और तब से मैं क्रिकेट के प्रति दीवानी हो गई हालांकि इस कार्य में मेरे परिवार का भरपूर सहयोग रहा जब मैं जिला स्तर पर खेलना प्रारंभ किया तो जिला क्रिकेट संघ के तत्कालीन सचिव श्री धर्म वीर पटवर्धन सर ने मुझे काफी प्रोत्साहित किया।

 मुझे निवर्तमान जिलाधिकारी रवि शंकर चौधरी सर और पुलिस अधीक्षक राजीव रंजन सर ने भी लीग मैच के उद्घाटन के दौरान मोमेंटो देकर प्रोत्साहित भी किया था। कोच राजेश कुमार चौधरी का भरपूर योगदान रहा हालांकि कुर्था के बेटी के राज्य स्तर पर चुने जाने पर गांव में काफी खुशी की लहर देखी जा रही है।

कोई टिप्पणी नहीं

Type you comments here!