Breaking News

राजकीय सम्मान के साथ शहीद जवान को दी जायेगी अंतिम विदाई

शहीद जवान के पार्थिव शरीर को आज लाया जायेगा उनके पैतृक गांव

परिजनों का रो रोकर हुआ बुरा हाल

सांत्वना देने पहुंचे जिला परिषद प्रत्याशी अभिभावक


बिक्रमगंज
(रोहतास) : जम्मू काश्मीर के कुपवाड़ा में ड्यूटी के दौरान सड़क दुर्घटना में शहीद होने वाले जवान के परिजनों पर दुःख का पहाड़ टूट गया है । घर पहुंचने वाले लोगों का तांता लगा हुआ है । हालांकि शहीद की पत्नी और परिवार के अन्य लोगों को शहीद सैनिक के सिर्फ जख्मी होने की बात बताई गई है । बावजूद अनहोनी की आशंका से परिजनों का रो रो कर बुरा हाल हुआ है । बिक्रमगंज प्रखंड के मैधरा निवासी राम प्रवेश सिंह के 38 वर्षिय पुत्र धर्मेंद्र कुमार सिंह उर्फ पप्पू सिंह सेना में ईएमई कोर में फोर सी बटालियन में था । 

वह जम्मू काश्मीर के कुपवाड़ा में पदस्थापित थे । सोमवार की शाम 5 बजे वहां से मोबाइल पर फोन आया कि सड़क दुर्घटना में पेट्रोलिंग वैन खाई में पलट जाने से उनकी मौत हो गई है । इसकी जानकारी होते ही पूरा परिवार सदमें में है । हालांकि घटना के बाद ग्रामीणों ने परिवार को सिर्फ जख्मी होने की बात कह कर शांत करा रखा है । फिर भी परिवार के लोगों का रो रोकर बुरा हाल हो गया है । शहीद सैनिक के मासूम बच्चों को यह समझ में नही आ रहा कि क्या हुआ है । धर्मेंद्र अपने माता पिता का इकलौता पुत्र था । वह अपने पिता, बहन, पुत्र व पत्नी का खूब ख्याल रखता था । डेढ़ माह पूर्व वह गांव आया था और अपनी पत्नी से अगले माह में आने की बात भी फोन पर कही थी । सबों को दशहरा में उसके आने की उम्मीद थी । उनके चचेरे भाई देवेंद्र सिंह कहते हैं कि वह और उसका एक दोस्त कुलवीर बहादुर सिंह एक साथ 8 अप्रैल 2008 को सेना में गया जाकर बहाल हुए थे । 

उनका एक अन्य मित्र जितेंद्र कुमार राय 2005 में सेना की नौकरी में गए थे। तीनों में बहुत दोस्ती थी और तीनों सेना में गए। । पैक्स अध्यक्ष सुनिल कुमार सिंह कहते हैं कि धर्मेंद्र सामाजिक कार्यों में काफी बढ़ चढ़ कर भाग लेते थे । छठ में घाट सजाना, पेंटिंग, सफाई में वे बहुत रुचि लेते थे । उन्होंने मैट्रिक से लेकर स्नातक तक की शिक्षा बिक्रमगंज से प्राप्त किया था । 1999 में उच्च विद्यालय बिक्रमगंज से मैट्रिक पास करने के बाद ए एस कॉलेज से इंटर व स्नातक की पढ़ाई किया । वे काफी मिलनसार व्यक्तित्व के थे । अलग अलग माध्यम से संपर्क करने का प्रयास कर रहे हैं । फिलहाल शहीद सैनिक के पिता लकवाग्रस्त हैं । पत्नी गुड़िया देवी 6 वर्षिय पुत्र तेज प्रताप और 5 वर्षिय पुत्र आर्यन और सैनिक की एक बहन गांव पर ही रहते हैं । पिता काफी बीमार रहते हैं । घर में धर्मेंद्र ही एकमात्र कमाऊ परिवार थे । 


उनकी मौत की खबर से यह पूरा परिवार सदमे में है। शहीद सैनिक का अंत्येष्टि संस्कार उनके पैतृक गांव में गुरूवार को ही राजकीय सम्मान के साथ किया जायेगा । शहीद सैनिक का शव गुरुवार को आने की संभावना जताई जा रही है । इसकी सूचना मिलते ही बिक्रमगंज दक्षिणी क्षेत्र के जिला परिषद प्रत्याशी राधिका देवी के पति जिला परिषद प्रत्याशी अभिभावक सह व्यवसायिक प्रकोष्ठ के प्रदेश अध्यक्ष लोजपा बिहार के अनंत कुमार गुप्ता शहीद जवान के पैतृक गांव पहुंच उनके परिजनों को इस दुख की घड़ी में ढाढ़स बंधाया एवं सांत्वना दी । मौके पर उनके साथ स्थानीय ग्रामीण लोग मौजूद थे ।

कोई टिप्पणी नहीं

Type you comments here!