Breaking News

शिक्षक ही मनुष्य को सफलता की बुलंदियों पर पहुंचाता है : प्रो राहुल


रोहतास बिक्रमगंज संवाददाता राजू रंजन दुबे की रिपोर्ट

बिक्रमगंज(रोहतास)। अनुमंडल क्षेत्र अंतर्गत सभी प्रखंडों के सरकारी एवं गैर सरकारी शैक्षणिक संस्थाओं में छात्र व छात्राओ के द्वारा शिक्षक दिवस सादगी के साथ मनाया गया । इस पुनीत अवसर पर डॉ सर्वपल्ली राधाकृष्णन के तैलचित्र पर शिक्षक , शिक्षिकाएं , छात्र व छात्राओं ने पुष्प अर्पित कर उनके बताए हुए दिशा निर्देश पर चलने के लिए संकल्प लिया । 

उस दौरान ग्रीन फ्लॉवर कोचिंग सेंटर काराकाट के निदेशक प्रो राहुल कुमार सिंह ने उनके व्यक्तित्व पर प्रकाश डालते हुए कहा कि हर व्यक्ति के जन्म के साथ ही एक कुम्हार के कच्चे घड़े के समान ही होता है लेकिन व्यक्ति के जीवन को मूल्यवान बनाने में अहम भूमिका निभाता होता है एक गुरु । हर इंसान की पहली गुरु उसकी मां होती है और उसके बाद शिक्षा ग्रहण के दौरान एक शिक्षक ही मनुष्य को सफलता की बुलंदियों पर पहुंचाता है । उन्होंने कहा कि हर साल 5 सितंबर का दिन शिक्षक दिवस के रूप में मनाया जाता है । 

देश में शिक्षक दिवस डॉ. सर्वपल्ली राधाकृष्णन की जयंती के उपलक्ष्य में मनाया जाता है । डॉ. सर्वपल्ली राधाकृष्णन एक शिक्षक होने के साथ-साथ आजाद भारत के राष्ट्रपति भी थे । साथ ही एक महान दार्शनिक भी थे । डॉ. सर्वपल्ली राधाकृष्णन ने करीब 40 साल तक एक शिक्षक के रूप में कार्य किया था । देशभर में शिक्षक दिवस मनाने की परंपरा साल 1962 में शुरू हुई थी । डॉ. सर्वपल्ली राधाकृष्णन का जन्मदिन मनाने के लिए उनके छात्रों ने ही उनसे इस बात को लेकर स्वीकृति ली थी । तब डॉ. सर्वपल्ली राधाकृष्णन ने कहा था कि मेरा जन्मदिन मनाने के बजाए इस दिन शिक्षकों के सम्मान में मनाना चाहिए । तब उन्होंने खुद इस दिन को शिक्षकों के सम्मान में शिक्षक दिवस आयोजित करने का सुझाव दिया । 

डॉ. सर्वपल्ली राधाकृष्णन कहते थे कि पूरी दुनिया एक विद्यालय है जहां हमें कुछ ना कुछ सीखने को मिलते रहता है । मौके पर छात्र अंकित कुमार उर्फ मोनू कुमार , सोमजीत कुमार , उज्ज्वल कुमार , छात्राओं में अंकिता ,शिवानी ,सुप्रिया ,काजल ,चांदनी ,रौशनी , प्रियांशु , सोनाली ,रीमा, नगमा सहित अन्य छात्रा मौजूद हुए।

कोई टिप्पणी नहीं

Type you comments here!