Breaking News

पूजा पंडाल बनेंगे लेकिन मेला नहीं लगेगा : डीएम


वैशाली जिला ब्यूरो प्रभंजन कुमार मिश्रा की रिपोर्ट

हाजीपुर(वैशाली)जिले में अलग-अलग थाना क्षेत्रों में 78 स्थानों पर दंडाधिकारीयों के साथ पुलिस पदाधिकारियों की की गई प्रतिनियुक्ति।कोविड-19 का प्रसार रोकने के लिए गृह मंत्रालय दारा दिए गए दिशा-निर्देश में लगाए गए प्रतिबंधों के आलोक में इस वर्ष चेहल्लुम और दशहरा पूजा के मौके पर किसी तरह का जुलूस नहीं निकालने और अस्त्र-शस्त्रों का प्रदर्शन नहीं करने का निर्णय लिया गया है। इस बीच निषेधाज्ञा आदेश का अनुपालन करते हुए दुर्गा पूजा का आयोजन किया जाएगा।दुर्गा पूजा के अवसर पर मूर्ति स्थापना के लिए पंडाल का निर्माण तो किया जाएगा,लेकिन किसी तरह का मेला एवं सांस्कृतिक कार्यक्रम आयोजित नहीं किए जाएंगे।

चेहल्लुम और दुर्गा पूजा में डीजे बजाने पर बिल्कुल प्रतिबंधित रहेगा।यह निर्णय रविवार को समाहरणालय सभागार में वैशाली डीएम उदिता सिंह एवं वैशाली एसपी मनीष कुमार की मौजूदगी में जिला स्तरीय शांति समिति की बैठक में लिया गया।बैठक में सभी पूजा समिति के सदस्यों को सलाह दिया गया कि वह अनिवार्य रूप से कोविड-19 का टीका ले लें, ताकि संक्रमित व्यक्तियों के संपर्क में आने के बाद बीमारी होने की आशंका नहीं रहे।इसके साथ हीं सभी पूजा स्थलों पर आने-जाने के लिए अलग-अलग घेराबंदी किया जाए ताकि भीड़ में एक व्यक्ति से दूसरे व्यक्ति संपर्क में नहीं आ सके।

 डीएम ने कहा कि जिला स्वास्थ्य विभाग सभी महत्वपूर्ण पूजा समितियों से समन्वय बनाकर पूजा पंडालों के पास कोविड-19 टीकाकरण के विशेष कैंप की व्यवस्था करें। इसके लिए कार्ययोजना तैयार करने का निर्देश दिया गया है। उन्होंने कहा कि इस वर्ष चेहल्लुम 28 सितंबर को तथा दुर्गा पूजा का कलश स्थापन 7 अक्टूबर से प्रारंभ होकर विजयादशमी 15 अक्टूबर तक मनाया जाना है।बैठक में इस मौके पर विधि-व्यवस्था बनाए रखने के लिए जिले में अलग-अलग थाना क्षेत्रों में 78 स्थानों पर दंडाधिकारी के साथ पुलिस पदाधिकारियों की प्रतिनियुक्ति की गई है। 

इसके साथ जिला स्तर पर चौबीस घंटे संचालित जिला नियंत्रण कक्ष स्थापित  किया गया है। नियंत्रण कक्ष में वरीय पदाधिकारियों के नेतृत्व में पुलिस पदाधिकारी और कर्मियों को अलग-अलग तीन शिफ्ट में ड्यूटी लगाई गई है। बैठक में एडीएम जितेंद्र कुमार साह,एसडीओ अरुण कुमार समेत तीनों एसडीओ एवं सदर डीएसपी राघव दयाल समेत तीनों एस्डीपीओ, सभी थानाध्यक्ष, सीओ एवं बीडीओ के अलावा राजनीतिक दल के प्रतिनिधि, विभिन्न चेहल्लुम कमेटी एवं दुर्गा पूजा समितियों के प्रतिनिधि उपस्थित थे।

कोई टिप्पणी नहीं

Type you comments here!