Breaking News

वैदिक मंत्रोच्चारण एवं दीप प्रज्वलन के साथ विद्यालय में हिंदी स्थापना दिवस मनाया गया‌।


वैशाली जिला ब्यूरो प्रभंजन कुमार मिश्रा की रिपोर्ट 

"हिंदी है हम वतन है। हिंदोस्ता हमारा।"आज हिंदी दिवस के अवसर पर विद्यालय परिसर में बच्चों के बीच इस कार्यक्रम की विधिवत शुरुआत वैदिक रीति से दीप प्रज्वलन कर शुभम् करोति कल्याणम मंत्र का मंगलाचरण कर शुरुआत की गई। यह कार्यक्रम विद्यालय में बड़े धूमधाम और हर्ष उल्लास के साथ कोरोना के नियमों का पालन करते हुए मनाया। इस कार्यक्रम में विशिष्ट अतिथि के रूप में शिक्षाविद् और समाजसेवी डॉ के की कृष्ण एवं डॉक्टोरल रिसर्च स्कॉलर, गोल्डमैडलिस्ट पत्रकारिता और जनसंचार  अर्पिता स्नेह ने बच्चों की प्रस्तुति की सराहना की। हिंदी दिवस के इस कार्यक्रम में राष्ट्रकवि दिनकर, मैथिलीशरण गुप्त, सुभद्रा कुमारी चौहान, महादेवी वर्मा, कवि शिरोमणी नेपाली की कविताएं प्रमुख रूप से बच्चों के मुख पर छाए रहे। इस कार्यक्रम के दौरान बच्चों द्वारा संस्कृत की स्त्रोतम से लेकर दुर्गा चालीसा, हनुमान चालीसा, गायत्री चालीसा भी सस्वर पाठ कर कार्यक्रम को एक ऊंचाई प्रदान की। दुर्गा स्त्रोतम एवं शंकर स्त्रोतम का पाठ कर कक्षा नौवीं के छात्र अभिनव कुमार एवं इशिता सिंह ने प्रथम स्थान को प्राप्त किया। द्वितीय स्थान पर डाॅ बच्चन की कविता "कोशिश करने वालों की हार नहीं होती" को अपनी ओजस्वी वाणी में प्रस्तुत कर ईशांत सिंह ने तृतीय स्थान पर अपना हक जताया। सूर्यांश, नीलू, रिया, दीपिका,आकांक्षा, वैष्णवी, दिव्या, आयुष, मुजम्मिल,अमन आदि कई छात्रों ने विशेष रुप से अपना काव्य प्रस्तुत कर दर्शक दीर्घा की तालियों को अपने पक्ष में किया। कार्यक्रम के बाद बच्चों को प्रोत्साहन देते हुए विद्यालय के अध्यक्ष श्री राम बहादुर सिंह ने सभी बच्चों को हिंदी दिवस की शुभकामनाएं दी। उन्होंने आशीर्वचन देते हुए छात्र छात्राओं को बताया कि आज के परिवेश में भाषा की महत्ता को बनाए रखने के लिए विद्यालय परिवार प्रतिबद्ध है। कार्यक्रम के अंत में विद्यालय के प्राचार्य श्री सत्येंद्र कुमार सिंह ने हिंदी दिवस ही छात्र छात्राओं को शुभकामनाएं देते हुए उच्चारण वह शब्दों के चयन के महत्व को समझाया। उन्होंने बच्चों को राजभाषा हिंदी की गरिमा को बनाए रखने की निवेदन किया।

कोई टिप्पणी नहीं

Type you comments here!