Breaking News

14 वर्षीय छात्रा हत्या मामले में मुख्य आरोपी सहित साक्ष्य छुपाने के मामले में महिला सहित पांच गिरफ्तार



वैशाली जिला ब्यूरो प्रभंजन कुमार मिश्रा एवं नवीन कुमार सिंह की रिपोर्ट

सहदेई बुजुर्ग/महनार - महनार थाना क्षेत्र के करनौती गांव में 15 सितंबर को 14 वर्षीय नाबालिग स्कूली छात्रा की हत्या के मामले का उद्भेदन करते हुए पुलिस ने घटना के मुख्य आरोपी एवं साक्ष्य छुपाने की आरोपी एक महिला सहित पांच लोगों को गिरफ्तार किया है।जबकि एक अन्य आरोपी की गिरफ्तारी के लिए पुलिस लगातार छापेमारी कर रही है।पुलिस ने हत्या के लिए इस्तेमाल किए गए गमछा को भी बरामद किया है।हत्या किन वजहों से की गई यह अभी तक स्पष्ट नहीं हो सका है।पुलिस लगातार इसकी जांच कर रही है।

इस संबंध में जानकारी देते हुए महनार थाना अध्यक्ष मनोज कुमार सिंह ने बताया कि करनौती निवासी स्कूली की हत्या के मामले में घटना के मुख्य आरोपी दशरथ मांझी के साथ साक्ष्य छुपाने की आरोपी एक महिला सहित पांच लोगों को गिरफ्तार कर लिया गया है।उन्होंने बताया कि छात्रा की हत्या के आरोप में करनौती पंचायत के रूपनारायणपुर गांव निवासी दशरथ मांझी,यदुनाथ राय एवं गणेश माझी की पत्नी को के साथ इस मामले में पटोरी थाना क्षेत्र के बांदे गांव निवासी गौतम सहनी एवं वकील पासवान को गिरफ्तार किया गया है।उन्होंने बताया कि घटना के एक अन्य आरोपी के गिरफ्तारी के लिए लगातार छापेमारी की जा रही है।बताया कि पुलिस ने हत्या के लिए इस्तेमाल किए गए गमछा को वकील पासवान के घर से बरामद कर लिया गया है।

पुलिस के पूछताछ में आरोपियों ने छात्रा की हत्या की बात कबूल की है।लेकिन हत्या किन कारणों से की गई यह पुलिस को नहीं बता रहा है।उन्होंने बताया कि पोस्टमार्टम रिपोर्ट में मौत का कारण हत्या गला दबाकर,गले में फंदा डालकर दबाना बताया गया है।उन्होंने बताया कि पूछताछ के दौरान आरोपियों ने स्वीकार किया है कि गले में गमछा डाल कर उसकी हत्या की गई थी।उन्होंने घटना को पूर्व नियोजित बताते हुए कहा कि हत्या किन कारणों से की गई यह स्पष्ट नहीं है।अभी इसकी जांच की जा रही है।लेकिन हत्या पूर्ण नियोजित है यह स्पष्ट है।उन्होंने कहा कि दुष्कर्म नहीं किया गया या नहीं कर पाया।लेकिन दुष्कर्म का इंटेंशन था।उन्होंने बताया कि घटना को लेकर साक्ष्य छुपाने के आरोप में गणेश मांझी की पत्नी को गिरफ्तार किया गया है।उन्होंने बताया कि हत्या करने के बाद आरोपी साइकिल को सड़क किनारे ही खड़ा कर छोड़ दिया था।गणेश मांझी की पुत्री साइकल को अपने घर ले आई।बाद में दशरथ मांझी ने जब इन लोगों को साइकिल घर में नहीं रखने को कहा तब गणेश मांझी की पत्नी ने साइकिल को उठाकर पानी में फेंक दिया।जिसे पुलिस ने उसी की निशानदेही पर बरामद कर लिया है।थानाध्यक्ष ने बताया कि इस हत्याकांड में शामिल तीन आरोपी पहले भी जेल जा चुका है।

उन्होंने बताया कि दशरथ मांझी रेल डकैती के केस में पहले जेल जा चुका है।जबकि यदुनाथ राय पटोरी थाना क्षेत्र से आर्म्स एक्ट के मामले में और वकील पासवान भी पटोरी थाना क्षेत्र से ही चोरी के एक केस में जेल जा चुका है।थानाध्यक्ष ने कहा कि दशरथ मांझी सहित अन्य आरोपियों को पकड़ने के लिए पुलिस लगातार छापेमारी कर रही थी।उन्होंने बताया कि दशरथ मांझी की गिरफ्तारी के लिए उसके घर से लेकर ससुराल और अन्य रिश्तेदारों के यहां लगातार छापेमारी की जा रही थी।

घटना के संबंध में मिली जानकारी के अनुसार दशरथ मांझी ने पुलिस को बताया है कि वह छात्रा को रास्ते से आते जाते देखता था।उसने पुलिस को बताया है कि एक माह पूर्व छात्रा ने उसे साइकिल से धक्का मार दिया था और उसे गाली भी दी थी।जिसके कारण उसकी हत्या उसने की।लेकिन पुलिस उसकी बातों पर विश्वास नहीं कर रही पुलिस इसे आरोपियों द्वारा पुलिस को जांच से भटकाने की रणनीति समझ रही है।

छात्रा की हत्या के आरोपियों की गिरफ्तारी होने के बाद अब लोग स्पीडी ट्रायल चलाकर सभी को जल्द से जल्द सजा दिलाने की मांग कर रहे हैं।

कोई टिप्पणी नहीं

Type you comments here!