Breaking News

घर के सामने पानी भरे गड्ढे में पैर फिसल जाने से एक वृद्धा की मौत हो गई।


वैशाली जिला ब्यूरो प्रभंजन कुमार मिश्रा की रिपोर्ट

 वृद्धा शौच के लिए निकली थी। जिससे वह गड्ढे को देख नहीं पाई और पैर फिसल जाने से उसमें डूब गई। घटना महुआ थाने के फुलवरिया पश्चिम दलित बस्ती में घटी। लोगों ने पानी में डूबी महिला का शव कड़ी मशक्कत के बीच निकाला।

मिली जानकारी के अनुसार गांव के मेहरचंद पासवान की पत्नी 65 वर्षीया अकली देवी रात को शौच करने के लिए निकली थी। इस बीच घर के सामने पानी भरे गड्ढे में पैर फिसल जाने से वह उसमें लुढ़क गई। जिससे वाह गाड़ी खाई में चली गई और डूबने से उसकी मौत हो गई। वृद्धा को डूबने की खबर सुनकर आसपास के लोग दौड़े और उसे निकालने की कोशिश की। लेकिन गड्ढा गहरा और गंदा बदबूदार पानी होने कारण कोई उस में घुसने का हिम्मत नहीं कर पाया। 

वृद्धा का शव 10 घंटे बाद गुरुवार की सुबह में निकाला गया। सूचना पर पहुंचे पंचायत के सरपंच अमोद कुमार सिंह के अलावा संजय सिंह, ललन सिंह, आमोद पासवान, सुधीर पासवान, रणधीर झा रामदेव पासवान, सुकेश्वर दास, लक्ष्मी पासवान आदि ने बताया कि बारिश कि पानी लंबे समय से गड्ढा में जमा है। अब तो जमा पानी किस सरांध से बदबू भी आ रही है। उसी गड्ढे के गंदे पानी में वृद्धा डूब गई। जिससे उसकी मौत हो गई। 

लोगों ने बताया कि मृतिका काफी गरीब थी। पति बीमार और लाचार होने के कारण मजदूरी नहीं कर पाता है। फाकाकसी का जीवन जी रहे मृतिका का दाह संस्कार ग्रामीण सहायता से किया गया। लोगों ने बताया कि वृद्धा की डूबने की सूचना पुलिस को नहीं दी गई। घरवाले ग्रामीण लोगों के आर्थिक सहायता से उसका दाह संस्कार कर दिए। लोगों ने यह भी बताया कि मृतिका को रहने के लिए एक अच्छी झोपड़ी भी नसीब नहीं थी। वह टूटी झोपड़ी में जीवन काट रही थी।

कोई टिप्पणी नहीं

Type you comments here!