Breaking News

सुप्रिया हत्याकांड में एक संदिग्ध आरोपी को पकड़कर किया पुलिस के हवाले


वैशाली जिला ब्यूरो प्रभंजन कुमार मिश्रा एवं नवीन कुमार सिंह की रिपोर्ट

सहदेई बुजुर्ग/महनार - महनार थाना के करनौती गांव में 15 सितंबर को हुए 14 वर्षीय नाबालिग स्कूली छात्रा सुप्रिया कुमारी की नृशंस हत्या के मामले में ग्रामीणों ने एक संदिग्ध आरोपी को पकड़कर पुलिस के हवाले किया है।पकड़े गए आरोपी की भीड़ ने जमकर पिटाई की उसकी जान लेने पर उतारु भीड़ को पुलिस ने किसी प्रकार नियंत्रित कर आरोपी की जान बचाई।मौके पर पहुंचे एसपी आरोपी को अपने साथ ले गए।पकड़े गए आरोपी की निशानदेही पर सुप्रिया कुमारी की साइकिल एवं स्कूल बैग बरामद कर लिया गया है।

इस संबंध में मिली जानकारी के अनुसार महनार थाना के करनौती गांव निवासी उमाशंकर ठाकुर की पुत्री सुप्रिया कुमारी की नृशंस हत्या की घटना के एक संदिग्ध आरोपी करनौती गांव निवासी शिवजी मांझी के पुत्र दशरथ मांझी को ग्रामीणों ने सोमवार की सुबह पकड़ लिया और उसकी जमकर पिटाई कर दी।बाद में उसे स्थानीय लोगों ने ही किसी प्रकार सुरक्षित बचा कर एक दुकान के अंदर बंद कर दिया।मौके पर जुटी हजारों लोगों की भीड़ आरोपी को बाहर निकालने के लिए हंगामा करती रही।बाद में मौके पर पहुंचे जिला के एसपी मनीष कुमार ने आरोपी को सुरक्षित निकाल कर अपने साथ जिला मुख्यालय ले गए।लोगों की भीड़ और हंगामे को देखते हुए मौके पर समस्तीपुर जिला के पटोरी,वैशाली जिला के जंदाहा,महनार एवं बिदुपुर थाना आदि की पुलिस को भी बुलाया गया। लेकिन भीड़ किसी की सुनने को तैयार नहीं थी।जबकि मौके पर उपस्थित सुप्रिया के पिता भी लोगों को समझाने का प्रयास किया।इस संबंध में स्थानीय लोगों द्वारा बताया गया कि सुप्रिया हत्याकांड में दशरथ मांझी शुरू से ही संदिग्ध था।पुलिस भी इसकी तलाश कर रही थी।पुलिस इसके घर पर भी गई थी।लेकिन यह घटना के बाद से ही लगातार फरार था।बताया कि कुछ स्थानीय लोगों को यह जानकारी मिली कि दशरथ मांझी मोहिद्दीन नगर से महनार थाना क्षेत्र के अब्दुल्ला चौक के पास आएगा।जिसके बाद लोगों ने वहां घेरा डाला।जैसे ही दशरथ मांझी पहुंचा लोगों ने उसे पकड़ लिया।बताया गया कि लोगों को देखकर वह भागा और भागकर पहले नदी में कूदा और वहां से निकल कर एक मकई के खेत में घुस घुस गया।लेकिन लोग उसका लगातार पीछा करते रहे।वह भागते-भागते सिमरा गांव के निकट पहुंचा जहां कुछ लोग जब उसे पकड़ने का प्रयास किया तो उसे उसने धमकाया।जिसके बाद वह लोग वहां से हट गए।बाद में वह भागकर एक घर के छत पर चढ़ गया। लेकिन पीछा कर रहे लोग उसका लगातार पीछा करते रहे।उसे छत पर ही पकड़ लिया।इस बीच दशरथ मांझी ने अपने पैंट को खुद ही खोल कर फेंक दिया और अपनी पहचान छुपाने का प्रयास किया।स्थानीय द्वारा किये गए पूछताछ में दशरथ मांझी ने बताया कि सुप्रिया कुमारी की साईकिल और बैग गणेश माझी के घर में था।जिसके बाद लोग गणेश मासी के घर पहुंचे और साइकल एवं बैग के बारे में पूछताछ की। मौके से गणेश मांझी फरार बताया गया।

जबकि वहां उपस्थित लोग एवं पुलिस गणेश माझी की पत्नी और बेटी को अपने साथ ले गए।गणेश माझी के घर से के पीछे चौर में जमा पानी और जंगल के बीच सुप्रिया कुमारी की साईकिल एवं स्कूल बैग बरामद की गई बताया गया कि स्थानीय लोगों ने गणेश मांझी की पत्नी और बेटी को भी महनार थाना की पुलिस के हवाले किया है।इस संबंध में मिली जानकारी के अनुसार दशरथ मांझी को जिला के एसपी अपने साथ जिला मुख्यालय लेकर गए हैं।वहां दशरथ मांझी से घटना को लेकर लगातार पूछताछ की जा रही है। वहां मौके पर महनार थाना अध्यक्ष मनोज कुमार सिंह,एसडीपीओ एस के पंजियार सहित अन्य पुलिस पदाधिकारी उपस्थित है।स्थानीय लोगों ने यह भी कहा कि दशरथ मांझी पहले से अपराधी है।वह पहले भी इस प्रकार की छेड़छाड़ की घटनाओं को अंजाम दे चुका है।

कोई टिप्पणी नहीं

Type you comments here!