Breaking News

प्रखंड एवं पंचायत शिक्षकों का वेतन नहीं मिलने से बढी परेशानी



वैशाली से नवीन कुमार सिंह की रिपोर्ट




सहदेई बुजुर्ग -  सहदेई बुजुर्ग प्रखंड में कार्यरत प्रखंड पंचायत शिक्षकों को महीनो से वेतन भुगतान नहीं होने से उन्हें ढेरों परेशानियों का सामना करना पड़ रहा है।कोई अपने माता-पिता का इलाज नहीं करा पा रहा है तो कोई स्वयं के लिए भी दवाई खरीदने में सक्षम नहीं हो रहा है।


वैशाली जिला ब्यूरो प्रभंजन कुमार मिश्रा रिपोर्ट नवीन कुमार सिंह

मिली जानकारी के अनुसार सहदेई बुजुर्ग प्रखंड में कार्यरत प्रखंड शिक्षकों को जुलाई एवं अगस्त और पंचायत शिक्षकों को अगस्त माह का वेतन भुगतान अभी तक नहीं हुआ है।जबकि सितंबर का महीना भी बीतने में केवल तीन दिन शेष है।लगातार तीन महीने से वेतन भुगतान नहीं होने के कारण प्रखंड पंचायत शिक्षकों को भारी परेशानियों का सामना करना पड़ रहा है।बताया जाता है कि जिला कार्यक्रम पदाधिकारी स्थापना ने पूर्व में ही आदेश जारी कर स्पष्ट रूप से कहा था की प्रत्येक माह की 25 तारीख तक अनुपस्थिति विवरणी जिला स्थापना कार्यालय में जमा कर देनी है।इसको लेकर पुनः आदेश जारी किया जा चुका है।लेकिन इस सब के बावजूद भी सभी आदेशों को धता बताते हुए लगातार अनुपस्थिति विवरणी जमा करने में विलंब जारी है।प्रखंड पंचायत शिक्षकों को वेतन भुगतान नहीं होने से उन्हें स्वयं के साथ-साथ परिजनों के भी भरण-पोषण एवं इलाज आदि में परेशानी आ रही है।बताया जाता है कि कई ऐसे शिक्षक हैं,जो रुपए के अभाव में स्वयं के लिए भी दवा खरीदने में सक्षम नहीं हैं।जबकि कुछ ऐसे भी शिक्षक हैं जो अपने माता-पिता का भी इलाज रुपए के अभाव में नहीं करा पा रहे हैं।प्रखंड पंचायत शिक्षकों का वेतन भुगतान बाधित रहने पर कड़ी नाराजगी प्रकट करते हुए राष्ट्रीय शैक्षिक महासंघ के प्रखंड अध्यक्ष डॉ प्रमोद कुमार ने कहा कि यह शिक्षकों के मानवाधिकार का सीधा-सीधा उल्लंघन है।उन्होंने कहा कि आवंटन के अभाव में वेतन भुगतान बाधित होना यह बताता है कि सरकार शिक्षकों के वेतन भुगतान को लेकर गंभीर नहीं है।उन्होंने कहा कि जिस प्रकार से लगातार वेतन भुगतान बाधित हो रहा है वह एक गंभीर समस्या बन गई है।जिसे सरकार को तुरंत दूर करना चाहिए।उन्होंने कहा कि अगर एक सप्ताह के अंदर प्रखंड पंचायत शिक्षकों का वेतन भुगतान नहीं किया गया तो राष्ट्रीय शैक्षिक महासंघ आंदोलन का रास्ता अख्तियार करेगा।

कोई टिप्पणी नहीं

Type you comments here!