Breaking News

दिव्यांगो ने कहा हमें नाम नही बल्कि काम चाहिए, औरो का नही हमें अपना अधिकार चाहिए।


अरवल जिला ब्यूरो वीरेंद्र चंद्रवंशी की रिपोर्ट

अरवल- बीआरसी प्रखंड भवन अरवल में डीपीजी अरवल के दिव्यांगों ने प्रदेश डीपीजी कार्यकरणी के साथ किया बैठक कहा हमें अपना अधिकार चाहिए क्यों हमें अपने ही अधिकार के लिए कार्यालय का चक्कर लगाना पड़ता है । इस मौके पर माननीय ह्रदय यादव (उपाध्यक्ष, बिहार पीडब्ल्यूडी संघ),श्री विनय कुमार पंकज, बीआरपी,श्री संजीव कुमार (सचिव, बिहार पीडब्ल्यूडी संघ),श्री धीरज कुमार धनराज(प्रदेश मीडिया प्रभारी) उपस्थिति थे। मौके पर उपस्थित उपाध्यक्ष महोदय ने कहा की दिव्यांगजनों को सरकार द्वारा प्रदत्त अधिकारों का लाभ तब सही रूप में मिलेगा जब सरकारी महकमे में बैठे पदाधिकारीगणों को दिव्यांगजन योजनाओं के बारे में सही रूप में जानकारी हो । वर्तमान समय में आरपीडब्ल्यूडी एक्ट 2016 का यदि जमीनी स्तर पर पालन हो तो हर दिव्यांग को रोजगार ,आवास और अनाज आसानी से उपलब्ध हो जायेगा। साथ ही सभी दिव्यांग अपने एसोसिएशन से भी जुड़े रहे जिससे जहां भी सरकार आपको अपने अधिकारों से वंचित करने की कोशिश करें वहां आप संगठन का सहारा लेकर आप अपने हक को पा सकते हैं। बीआरपी विनय कुमार पंकज सह डीपीओ ने दिव्यांगो को आश्वासन दिया की किसी भी दिव्यांग को सरकारी सहायता लाभ प्राप्त करने में कोई परेशानी आ रही हो तो आप बेहिचक हम से संपर्क कर सकते है। धीरज कुमार धनराज महोदय ने कहा की प्रखंड स्तर पर हम दिव्यांग जनों के लिए स्वचालित योजनाओं के लिए लगातार दिव्यांग जनों को जागरूक करने का काम कर रहे हैं । इस कार्य में हमें डीपीजी समूह का सहयोग भी प्राप्त हो रहा है और हम उनकी मदद से टोले स्तर पर दिव्यांग जनों से संपर्क कर उन को लाभ पहुंचाने में सफल हो रहे हैं। संजीव कुमार डीपीजी सचिव पटना ने कहा की बिहार में दिव्यांगों को लाभ न्यूनतम स्तर पर दिया जा रहा है। जिसके लिए सरकार के साथ दिव्यांग जन भी दोषी है। दिव्यांगों के लिए दिव्यांग अधिकार अधिनियम 2016 की सुसंगत धाराओं को जमीनी स्तर पर लाने की जरूरत है। जबकि यह अधिनियम दिव्यांगजनों के लिए हथियार है,इसके माध्यम से दिव्यांगो की हर छोटी बड़ी समस्याओं का समाधान पाया जा सकता है।

 हम सभी को इस हथियार का प्रयोग कर हर समस्याओं का समाधान करते हुए आगे बढ़ाना है। दिव्यांगो के हक के लिए हम दिव्यांगजनों को एक साथ आना होगा । आगामी 3 दिसंबर 2021 को "अंतरराष्ट्रीय दिव्यांग दिवस" पर हम सभी बिहार के दिव्यांगजन पटना के गांधी मैदान में अपने अधिकार के लिए "दिव्यांग अधिकार दिवस" के रूप में एक भव्य सम्मेलन का आयोजन सरकार के गाइडलाइंस का पालन करते हुए करेंगे । इसके बावजूद भी यदि सरकार द्वारा गांधी मैदान नहीं मुहैया कराया गया तो हम सभी अपने जिले में ही अनुमंडल,प्रखंड एवं पंचायत स्तर पर "दिव्यांग अधिकार दिवस" का आयोजन कर सरकार से अपने हक की मांग करेंगे। जिसमें आप सभी दिव्यांगजन की उपस्थिति अनिवार्य है,साथ ही बिहार के हर दिव्यांग के घर से एक ग्लास चावल एवं आधा ग्लास दाल की मांग की जिससे सम्मेलन में हर दिव्यांग समरस भोजन कर सके । बिहार के दिव्यांगजन अपने हक के प्रति जागरूक ही नही है। जिसकी वजह से वे अपनी योजनाओं का लाभ नहीं ले पा रहे है। हम अपनी संगठन की ओर से सरकार ये मांग करेंगे की पंचायत स्तर पर दिव्यांग मित्र का चयन हो जिसे पंचायत स्तर पर दिव्यांगों को योजनाओं का लाभ मिल सके। दिव्यांगजनों ने अपने हक की खातिर सम्मेलन होने तक "महाहस्ताक्षर अभियान" का भी मुहिम चलाया जा रहा है जो आगामी 3 दिसंबर 2021 तक चलेगा। 

जिसका मुख्य उद्देश्य दिव्यांगो को हक और सम्मान दिलाना है। सम्मेलन को सफल बनाने हेतु अरवल जिला में आयोजन समिति का गठन किया गया। जिसमें संगीता कुमारी को अध्यक्ष, जावीर हुसैन को उपाध्यक्ष,रिजवान खातून को सचिव,नाजिम आलम को संयुक्त सचिव,प्रकाश कुमार को मीडिया प्रभारी,रवींद्र कुमार को पीआरओ,विमलेश चौधरी को ट्रांसपोर्ट इंचार्ज,रवि कुमार को लॉजेस्टिक इंचार्ज,शिला कुमारी, शोभा कुमारी को महिला सदस्य,एवं विनय कुमार पंकज को डीपीओ के लिए चुना गया है। इस मौके पर अमृता अग्रवाल,रौशनी कुमारी,रूबी देवी,लाल छारी ,रवि कुमार,विमलेश चौधरी, अंजु देवी के साथ सैकड़ों की संख्या में दिव्यांग जन एवं उनके गार्जियन उपस्थित थे।

कोई टिप्पणी नहीं

Type you comments here!