Breaking News

सात अक्टूबर को शारदीय नवरात्र प्रारंभ, घोड़े पर होगा माता रानी का शुभ आगमन, हाथी पर होगा प्रस्थान


शक्ति
की उपासना का महापर्व शारदीय नवरात्रि सात अक्तूबर से शुरू हो रहा है । पंचांग के अनुसार इस वर्ष षष्ठी तिथि का क्षय होने से नवरात्रि आठ ही दिन का रहेगा । जो सात अक्तूबर से शुरु होकर 14 अक्तूबर को समाप्त होगा । 15 अक्तूबर को विजयादशमी का पर्व मनाया जाएगा ।ज्योतिषाचार्यों के मुताबिक इस बार माता का आगमन घोड़े पर हो रहा है । जो सामान्य फलदायक है, लेकिन दशमी शुक्रवार को होने से माता का प्रस्थान हाथी पर हो रहा है जो शुभ फलदायक रहेगा । इससे समस्त व्यक्तियों में नई स्फूर्ति, नव चेतना का संचार होगा । साथ ही सुख-समृद्धि की प्राप्ति होगी ।

ज्योतिषाचार्य हरिशरण दुबे के अनुसार सात अक्तूबर को प्रतिपदा तिथि दिन में तीन बजकर 28 मिनट तक है । ऐसे में सूर्योदय से प्रतिपदा तिथि तीन बजकर 28 मिनट के भीतर कभी भी कलश स्थापन किया जा सकता है । इसके लिए प्रातः छह बजकर 10 मिनट से छह बजकर 40 मिनट तक ( कन्या लग्न-स्वभाव लग्न में) , पुनः 11 बजकर 14 मिनट से दिन में एक बजकर 19 मिनट तक (धनु लग्न-द्विस्भाव लग्न), इसके साथ ही अभिजित मुहुर्त ( सुबह 11 बजकर 36 मिनट से-12 बजकर 24 मिनट तक) रहेगा , जिसमें ये तीनो मुहूर्त कलश स्थापना के लिए प्रशस्त रहेगा।

कोई टिप्पणी नहीं

Type you comments here!