Breaking News

घूमने लगे कुम्हारों के चाक, दीपावली के लिए बनने लगे दीए और मिट्टी के बर्तन


बिक्रमगंज
(रोहतास)। पिछले दो साल से कोरोना की मार झेल रहे स्थानीय शहर के कुम्हारों की दीपावली इस बार अच्छे से मनने वाली है । कुम्हारों को इस बार बड़ी संख्या में मिट्टी के दीए और बर्तन बनाने के ऑर्डर मिल रहे हैं । दीपावली के नजदीक आते ही स्थानीय शहर बिक्रमगंज अनुमंडल अंतर्गत सभी प्रखंडों के शहरी एवं ग्रामीण क्षेत्रों के तमाम इलाकों में कुम्हारों के घरों और कॉलोनी में रौनक नजर आने लगी है । कुम्हार लगातार दीए और मिट्टी के बर्तन बनाने में जुट गए हैं । कुम्हारों का चाक लगातार घूम रहा है । कारीगर दीए और बर्तन बनाने में पूरी तन्मयता से लगे हुए हैं ।

पिछले साल कोरोना की मार से ये कारीगर जहां भुखमरी की कगार तक पहुंच गए थे, जबकि इस बार बड़े पैमाने पर दीए और मिट्टी के अन्य बर्तनों के ऑर्डर मिलने से काफी उत्साहित नजर आ रहे हैं । बर्तन और दीए बनाने में कुम्हारों का पूरा कुनबा जुटा हुआ है । दीए बनाने वाले एक कारीगर मुंशी प्रजापति एवं ललन प्रजापति ने बताया कि पिछले साल कोरोना की वजह से उन्हें काफी नुकसान उठाना पड़ा था, लेकिन इस बार हालात पहले के मुकाबले एकदम अलग हैं । मिट्टी के बर्तनों के ऑर्डर मिलने से परिवार में उमंग और खुशियों का माहौल बन गया है ।

कोई टिप्पणी नहीं

Type you comments here!