Breaking News

जहां से निकलती है विकास गंगा वहां ही स्थिति नारकीय


वैशाली
: कहा गया है कि जहां से विकास की गंगा बहती है। जहां लोग फरियाद लेकर पहुंचते हैं और उसी स्थल की हालत ऐसी की पहुंचने में पदाधिकारियों को ही परेशानियों का सामना करना पड़ता है। यह स्थिति महुआ अनुमंडल कार्यालय के मुख्य द्वार की है। 

स्थिति ऐसी है कि आम लोगों की तो दूर पदाधिकारियों की ही गाड़ियां कादो कीचर और टूटी रास्ते में अटक जाती है। उसे निकालने के लिए गाड़ी के चालक को जो फजीहत होती है जो वही जानते हैं। बुधवार को अनुमंडल द्वार की जर्जर सड़क पर डीसीएलआर साहब की गाड़ी इस कदर फस गई इसे निकालने के लिए चालक को जद्दोजहद करने पड़े। काफी कोशिश की लेकिन गाड़ी टस से मस नहीं हो रही थी।

 सिर्फ उसके चक्के नाच रहे थे। यहां पर गाड़ी को निकालने के लिए यह गेट पर तैनात पुलिस के जवान के अलावा कई अन्य लोग पहुंचे और उसे ठेलने की कोशिश की। बावजूद वह नहीं निकल पाई। अंत में चालक द्वारा मशक्कत कर उसे निकाला गया। मालूम हो कि अनुमंडल कार्यालय परिसर अभी भी पूरी तरह जलमग्न बना हुआ है। यह कादो किचर और सेमाल से भर गया है। मुख्य द्वार पर ही सड़क जर्जर बनकर गड्ढे में तब्दील हो गई। उसी में कुछ ईट पत्थर रखे गए हैं। जिससे गाड़ियों को निकलने में दिक्कत होती है।

कोई टिप्पणी नहीं

Type you comments here!