Breaking News

तीन दिनों से नई शिक्षा नीति पर चल रहे प्रशिक्षण संबंधी कार्यशाला का हुआ समापन


वैशाली जिला ब्यूरो प्रभंजन कुमार मिश्रा एवं कमलेश किशोर की रिपोर्ट

भारत सरकार द्वारा बच्चों के भविष्य को देखते हुए नई शिक्षा नीति को लागू किया गया इसी संदर्भ में श्री लक्ष्मी नारायण सरस्वती विद्या मंदिर भगवानपुर में छह अक्टूबर 2021 को तीन दिनों से चल रहे नई शिक्षा नीति शिक्षक प्रशिक्षण कार्यशाला का समापन किया गया। इस कार्यशाला के समापन के अवसर पर विद्या भारती के उत्तर पूर्व क्षेत्र के सचिव श्री नकुल कुमार शर्मा ने कहा कि वैश्विक परिस्थितियों में तीव्र गति से परिवर्तन दिख रहे हैं, इस परिस्थिति में हमें बच्चों को गुणवत्तापूर्ण शिक्षा की व्यवस्था करनी पड़ेगी। इसके लिए शिक्षा में विषयवस्तु को बढ़ाने की जगह आवश्यकता इसकी है कि शिक्षार्थी समस्या को भी पहचान सके और समाधान कर लेने में सक्षम बनकर तार्किक व रचनात्मक रूप से सोचने समझने लायक बन जाए।

 आगे उनके द्वारा शिक्षकों को मार्ग प्रशस्त करते हुए कहा कि सीखने के परिणामों की वर्तमान स्थिति और जो आवश्यक है, उनके बीच के खाई को प्रारंभिक बाल्यावस्था देखभाल और उच्चतर शिक्षा के माध्यम से शिक्षा में उच्चतम गुणवत्ता सरल भाषा और पद्धतियों के जरिए पाटा जा सकता है। इसके लिए ऐसी शिक्षा पर भी विचार करना होगा जहां किसी भी सामाजिक और आर्थिक पृष्ठभूमि से संबंध रखने वाले शिक्षार्थियों को समान रूप से सर्वोच्च गुणवत्ता की शिक्षा उपलब्ध हो। इस समारोह को इनके अलावे संबोधित करने वालों में लोक शिक्षा समिति, बिहार के सचिव मुकेश नंदन, सह सचिव राम लाल सिंह, लालगंज के वर्तमान विधायक संजय कुमार सिंह, विभाग निरीक्षक ललित कुमार राय , विद्यालय के प्रधानाचार्य नरेन्द्र कुमार द्विवेदी आदि सम्मिलित थे।

 मौके पर विद्यालय के अध्यक्ष मृत्युंजय कुमार उपस्थित रहे जबकि कार्यक्रम के दौरान मंच संचालन कार्य विद्यालय के आचार्य रमेश चौधरी और धन्यवाद ज्ञापन मनीषा कुमारी के द्वारा किया गया। इस कार्यशाला का आयोजन 4 अक्टूबर 2021 से लेकर 6 अक्टूबर 2021 तक चलने वाले इस कार्यशाला के विधि व्यवस्था की देखरेख विद्यालय के आचार्य श्री विनय कुमार सिंह, अमरेंद्र कुमार, बबन कुमार एवं महिला शिक्षकों में अर्चना कुमारी सुषमा कुमारी विमला कुमारी सहित अन्य शिक्षकों के द्वारा किया गया।

कोई टिप्पणी नहीं

Type you comments here!