Breaking News

प्रधानमंत्री ने सदर अस्पताल में किया पीएसए संयत्र का वर्चुअली उद्घाटन


वैशाली जिला ब्यूरो प्रभंजन कुमार मिश्रा की रिपोर्ट

  • - एक बार में भरे जा सकेगें 200 जम्बो सिलेंडर
  • - 960 लीटर प्रति मिनट है उत्पादन क्षमता

   प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी द्वारा सदर अस्पताल में पीएसए संयत्र का वर्चुअली उद्घाटन किया गया। यह प्लंट पीएम केयर के फंड से तैयार हुआ है। जिसमें स्वास्थ्य मंत्री मंगल पांडेय सहित वरिष्ठ नेताओं की उपस्थिति रही। मौके पर प्रधानमंत्री ने कहा कि भविष्य में कोरोना की लड़ाई में मेडिकल इंफ्रास्ट्रक्चर की पूरी व्यवस्था पुख्ता हो इसके लि हमें अभी से ही तैयारी जारी रखनी होगी। ताकि जरूरत के समय कोई संकट न हो। इस मौके पर स्वास्थ्य मंत्री मंगल पांडेय ने कहा कि यह हर्ष की बात है कि आज प्रधानमंत्री जी के द्वारा देश में अनेक जगहों पर पीएसए संयत्र का उद्घाटन किया गया है।


 वहीं इससे पहले 17 सितंबर को भी नीतीश कुमार के द्वारा राज्य में 72 संयत्रों का लोकार्पण किया गया था। उन्होंने कहा कि कोरोना के दूसरे फेज में पूरे देश ने ऑक्सीजन की कमी का सामना किया था। हम पहले से ही एक मजबूत स्वास्थ्य संरचना का निर्माण करते आ रहे हैं जिसमें यह संयत्र ऑक्सीजन की आपूर्ति में सहायक होगा। प्रधानमंत्री ने आज से पांच महीने पहले देश में लगभग 1500 संयत्रों की स्थापना की बात कही थी जो अब पूरी होती नजर आ रही है। स्वास्थ्य मंत्री ने इस कार्य के लिए केंद्रीय स्वास्थ्य मंत्री और नीतीश कुमार की अगुवाई का भी आभार व्यक्त किया। 

वहीं मौके पर मौजूद केन्द्रीय मंत्री पशुपति कुमार पारस ने वैशाली में इस पीएसए संयत्र की स्थापना पर प्रधानमंत्री, स्वास्थ्य मंत्री सहित मुख्यमंत्री का अभिनंदन किया। वहीं कहा कि कोरोना काल में जिस मुस्तैदी के साथ प्रशासन और स्वास्थ्य विभाग ने काम किया है वह काबिले तारीफ है। मंच संचालन डॉ अनिल शर्मा ने किया। 

मालूम हो कि हाजीपुर सदर अस्पताल में पीएसए संयत्र का लोकार्पण किया गया है। जिसकी क्षमता 960 लीटर प्रति मिनट है। इस ऑक्सीजन प्लांट से एक साथ 200 जम्बो सिलेंडर के भरने की व्यवस्था है। वहीं इससे मिलने वाले ऑक्सीजन की शुद्धता 93 प्रतिशत है। इसके अलावा एक ऑक्सीजन प्लांट की स्थापना महुआ में भी की जा रही है। 

हवा से ऑक्सीजन बनाने वाली तकनीक है पीएसए


सिविल सर्जन डॉ प्रमोद कुमार सिंह ने कहा कि पीएसए एक तकनीक है जो हवा से ही ऑक्सीजन बनाती है। इसमें एक चैम्बर में कुछ एडजाॅर्बेंट डालकर उसमें हवा को गुजारा जाता है, जिसके बाद हवा का नाइट्रोजन एडजाॅर्बेंट से चिपककर अलग हो जाता है और ऑक्सीजन बाहर आ जाती है। प्लांट में इसे 4 से 5 वायुमंडलीय दबाव दिया जाता है। मौके पर केन्द्रीय राज्यमंत्री नित्यानंद राय,जिलाधिकारी उदिता सिंह, डीडीसी विजय प्रकाश मीणा, सांसद वीणा देवी, सिविल सर्जन डॉ प्रमोद कुमार सिंह, एसीएमओ डॉ अमिताभ सिन्हा, डॉ एसपी सिंह, डॉ उदय नारायण सिन्हा, डॉ सुनील केसरी, डीसीएम नीभा रानी सिंहा, डीपीएम मणिभूषण झा, केयर डीटीएल सुमित कुमार सहित अन्य लोग उपस्थित थे।

कोई टिप्पणी नहीं

Type you comments here!