Breaking News

बाघ के भय से रतजग्गा कर रहे हैं जंगल से सटे रहने वाले ग्रामीण


रिपोर्ट अक्षय कुमार आनंद बेतिया बिहार 

मैनाटांड़: वाल्मीकि व्याघ्र परियोजना से सटे मानपुर थाना क्षेत्र के चक्रसन गांव के तीनमोहान छठिया घाट के पास बाघ के द्वारा पांच बकरियों के निवाला बनाने और ईख के खेत में बाघ का फुटप्रिंट देखे जाने के बाद लोगों में दहशत का आलम है। जिससे चक्रसन, गम्हरिया, पड़रिया,जिंगना, हरदिया आदि गांवों के लोग बाघ के भय से रतजग्गा कर रहे हैं। ग्रामीण विनय उरांव, रामपाल उराव, सोहन उरांव, विजय उरांव, व्यास उरांव,संजय उरांव, शुभनारायण उराव, जितेंद्र उराव, सर्वेश उरांव, कौशल्या देवी, सुनरपति देवी,कैलाशो देवी आदि ने बताया कि

चक्रसन के संजय ठाकुर और मनोहर उरांव के ईख के खेत में बाघ का फुटप्रिंट देखे जाने के बाद ग्रामीणों में दहशत का माहौल है। हम लोगों को पूरा विश्वास है कि बाघ ईख के खेत में ही डेरा डाले हुये हैं।तभी तो बाघ ने पांच बकरियों को को मार डाला। हम सभी ग्रामीण रतजग्गा करने को मजबूर है। रात में ग्रामीणों द्वारा ढोल नगारा के साथ-साथ पटाखा छोड़ा जा रहा है। ताकि बाघ रिहायशी इलाकों में नहीं आ सके। वहीं मंगुराहा रेंज के रेंजर सुनील पाठक ने बताया कि फुटप्रिंट के आधार पर बाघ को ट्रैक किया जा रहा है।वन विभाग के कर्मी लगे हुये हैं। वहीं लोगों को भी जागरुक किया जा रहा है कि खेतों के तरफ नहीं जायें।अगर जाना जरूरी भी है तो समूह में जायें।

कोई टिप्पणी नहीं

Type you comments here!