Breaking News

नवरात्र के दूसरे दिन भक्तभाव से मां ब्रह्मचारिणी की हुई उपासना


रिपोर्ट अक्षय कुमार आनंद बेतिया

मैनाटांड़: वैदिक मंत्रोच्चारण एवं देवी के जयघोषों के साथ शुक्रवार को शारदीय नवरात्र के दूसरे दिन मां ब्रह्मचारिणी देवी की पूजा की गयी। देवी मां के दाहिने हाथ में माला और बाएं हाथ में कमंडल हमेशा विराजमान रहता है। ब्रह्म का अर्थ है तपस्या और चारणी यानी आचरण करने वाली। इस प्रकार ब्रह्मचारिणी का अर्थ हुआ तप का आचरण करने वाली।  आचार्य राजेश पांडेय एवं आचार्य सुनील मिश्रा के अनुसार मां दुर्गा का यह स्वरूप भक्तों और सिद्धों को अनंत फल देने वाला है। इनकी उपासना से तपाए, त्याग, वैराग्य, सदाचार और संयम की वृद्धि होती है। शारदीय नवरात्र को लेकर प्रखंड मुख्यालय स्थित मां दुर्गा मंदिर,बेलवाडीह माई स्थान,भंटाटाड़, इनरवा,पिड़ारी,धोखराहा,भंगहा, रामपुर,बास्ठा, बसंतपुर आदि जगहों के   मंदिरों व पूजा पंडालों में श्रद्धालु महिला पुरुष भक्त पहुंच रहे हैं। सुबह से ही मंदिरों में  कोविड-19 को लेकर सोशल डिस्टेंसिंग का पालन करते हुए पूजा अर्चना कर रहे हैं।मां दुर्गा के कर्णप्रिय गानों से माहौल भक्तिमय हो गया है।पूजा को सफल बनाने में,बाबा नरायण दास, अनिल पटेल,अनुप कुमार, कमलेश कुमार, प्रमोद प्रसाद आदि सक्रिय हैं।

कोई टिप्पणी नहीं

Type you comments here!