Breaking News

आंदोलन के बल पर झुकना पड़ा मोदी सरकार को:- निसार अख़्तर अंसारी


अरवल जिला ब्यूरो वीरेंद्र चंद्रवंशी की रिपोर्ट

जिला कांग्रेस कमेटी अरवल के द्वारा आज तीनों काले कृषि कानूनों को वापस लेने की प्रधानमंत्री द्वारा घोषणा किए जाने पर " किसान विजय दिवस" मनाया गया और विजय रैली भी निकाली गई जो अरवल शहर के विभिन्न मार्गो पर भ्रमण करते हुए कचहरी मोड़ पर एक महती जनसभा में तब्दील हो गया, कांग्रेस पार्टी से जुड़े किसानों ने अरवल में गगनभेदी नारा लगाते हुए अपनी जीत की खुशियां मनाएं, रैली का नेतृत्व जिला उपाध्यक्ष श्री कामेश्वर शर्मा ने किया, बाद में महती सभा को संबोधित करते हुए जिला कोषाध्यक्ष एडवोकेट निसार अख़्तर अंसारी ने कहा कि तीनों काले कृषि कानूनों को सरकार द्वारा वापस लेना किसान आंदोलन की जीत है, देश के आम आवाम की जीत है, किसानों ने यह सिद्ध कर दिया कि संघर्ष के बल पर किसी भी अड़ियल सरकार को झुकाया जा सकता है, कांग्रेस पार्टी के नेता आदरणीय श्री राहुल गांधी ने बहुत पहले यह घोषणा कर दिया था कि इस काले कानूनों को सरकार को वापस लेना ही होगा.. वापस नहीं लेने का सवाल ही नहीं है. श्री राहुल गांधी जी एवं कांग्रेस पार्टी के नैतिक समर्थन ने ही अड़ियल और हिटलरशाही सरकार को झुकने पर मजबूर कर दिया! उपाध्यक्ष कामेश्वर शर्मा ने कहा कि प्रधानमंत्री द्वारा लाए तुगलकी फरमान इस काले कानून से लगभग 800 किसानों को अपनी कुर्बानी देनी पड़ी, किसानों के मौत के जिम्मेदार प्रधानमंत्री के माफी मांगने से देशवासी उन्हें क्षमा करने वाले नहीं है.! कुर्था प्रखंड कांग्रेस अध्यक्ष श्री रामविनय सिंह यादव ने कहा कि जब यह कानून सही नहीं था तो बेवजह कर सरकार ने इसे हटाने के लिए 14 महीने तक किसानों को आंदोलन करने पर क्यों मजबूर किया? तथा इस अड़ियल सरकार ने जो एक इंच पीछे नहीं हटने की बातें करती थी, वह सरकार इस आंदोलन के बदौलत कानूनों को वापस लेने को बाध्य हुई है! जिला प्रवक्ता मोहम्मद जावेद अख्तर ने कहा कि सरकार की घोषणा पर अभी सहज ही विश्वास नहीं किया जा सकता, यह झूठी घोषणाबाज सरकार है. 15 लाख दिए जाने की घोषणा को इनके मंत्री अमित शाह जुमला बता चुके हैं कि यह चुनाव जीतने के लिए जुमला था, इसलिए काले कानून वापसी की घोषणा भी उत्तर प्रदेश, पंजाब, उत्तराखंड चुनाव का जुमला हो सकता है, जब तक भाजपा सरकार संसद द्वारा इस काले कानून को निरस्त नहीं कर देती, तब तक प्रधानमंत्री के घोषणा पर विश्वास नहीं किया जा सकता है! महती सभा की अध्यक्षता श्री कामेश्वर शर्मा ने किया जबकि संचालन निसार अख्तर अंसारी ने किया! 

     इसके बाद संध्या पहर में जिला कांग्रेस कमेटी के तत्वाधान में किसान आंदोलन में शहीद हुए लगभग 800 किसानों के शहादत को श्रद्धांजलि देने के लिए कैंडल मार्च का भी आयोजन किया गया, कैंडल मार्च भी अरवल शहर में भ्रमण करते हुए वहीं कचहरी चौक पर तक पहुंची और शहादत दे चुके किसानों को श्रद्धांजलि दिया गया.! 

       उक्त दोनों कार्यक्रमों में पार्टी के उपाध्यक्ष श्री कामेश्वर शर्मा, कोषाध्यक्ष अधिवक्ता निसार अख़्तर अंसारी, कुर्था प्रखंड अध्यक्ष डॉक्टर रामविनय सिंह यादव, वंशी प्रखंड अध्यक्ष मोहम्मद कैफ, प्रवक्ता मोहम्मद जावेद अख्तर, नगर कांग्रेस अध्यक्ष मोहम्मद इस्लाम अंसारी, कुर्था प्रखंड उपाध्यक्ष मोहम्मद असलम अंसारी, जिला सचिव रविशंकर शर्मा, कृष्ण मुरारी शर्मा, रामबाबू यादव, रामबाबू शर्मा, अरुण कुमार भारती, लालमणि भारती, डॉ मोहम्मद जफर, हरे मुरारी शर्मा, सुनील कुमार सहित सैकड़ों लोग शामिल हुए।

कोई टिप्पणी नहीं

Type you comments here!