Breaking News

चिकित्सीय अवकाश के बाद भी रजिस्टर में भरा उपस्थिति, विरोध करने पर सहायक शिक्षक को किया गाली गलौज

  • विद्यालय में शिक्षकों पर रहती है प्रधानाध्यापक का दबदबा कायम 


अरवल
, अरवल जिले के बंशी प्रखंड अंतर्गत दनियाला प्लस टू सर्वोदय उच्च विद्यालय के प्रभारी प्रधानाचार्य प्रमोद कुमार द्वारा चिकित्सीय अवकाश लेने के बाद भी उपस्थिति रजिस्टर में अपना उपस्थिति दर्ज कराई है हालांकि इसको लेकर उसी विद्यालय के शिक्षक ने जिला शिक्षा पदाधिकारी को एक आवेदन देकर कार्रवाई की मांग की है दिए गए आवेदन में आवेदक ने उल्लेख किया है कि प्लस टू सर्वोदय उच्च विद्यालय के प्रभारी प्रधानाध्यापक प्रमोद कुमार द्वारा आदेश संख्या 7 दिनांक 2 जुलाई 2020 के अनुसार विद्यालय के पूर्णेन्दु नारायण " सुबर्ण" को आदेश संख्या 7 के तहत प्रभार दिया जिसका कारण उन्होंने लिखा कि मैं हृदय रोग से पीड़ित हो जाने के कारण एवं चिकित्सक के परामर्श के अनुसार दिनांक 3 जुलाई से चिकित्सा अवकाश पर रहूंगा प्रभार लेने के बाद मैं विद्यालय का कार्य किया जिसमें इंटर का स्थानांतरण प्रमाण पत्र और पंजीयन वर्ष 2019 - 2021 पर हस्ताक्षर कर विद्यार्थियों को वितरित भी किया।

 


साथ ही साथ 15 अगस्त 2020 को मैंने विद्यालय परिसर में झंडोत्तोलन का कार्य भी संपादित किया लेकिन वर्तमान में मुझे पता चला है कि पूरे चिकित्सा अवकाश के दिनों को विद्यालय के प्रभारी प्रधानाध्यापक प्रमोद कुमार द्वारा शिक्षक उपस्थिति पंजी में उपस्थिति दर्ज कर लिया है वहीं उन्होंने  जिला शिक्षा पदाधिकारी को कहा है कि उपरोक्त बिंदुओं को निर्देशित करते हुए अंकित करना चाहूंगा कि ऐसी हरकत सनकी विक्षिप्त एवं विकृत मानसिकता से पीड़ित व्यक्ति का घोतक है अंतिम एवं महत्वपूर्ण बात यह है कि हमसे एक चेक पर हस्ताक्षर करवा रहे थे उसमें मैं जानना चाहा कि किस-किस मद से राशि का भुगतान हो रहा है इस पर उन्होंने हम पर काफी आक्रोश किया और ऐसा शब्द का इस्तेमाल किया।

 


जिसे मैं उल्लेख नहीं कर सकता हूं एक तरह से कहा जाए तो उन्होंने मेरे साथ और संसदीय भाषा का भी प्रयोग किया है उन्होंने कहा कि 6 जुलाई 2021 को अरवल जिला शिक्षा पदाधिकारी के कार्यालय में हमने आवेदन कार्रवाई के लिए दिया था लेकिन अब तक कार्रवाई नहीं हो सका  इस मामले को लेकर अरवल जिला शिक्षा पदाधिकारी व अरवल जिला अधिकारी से उक्त प्रभारी प्रधानाध्यापक पर कार्रवाई की मांग भी की है

क्या कहते हैं अधिकारी

शिक्षक द्वारा दिए गए आवेदन मेरे संज्ञान में नहीं है और मैं इसे अपने स्तर से जांच करवाता हूं और इसमें जो भी दोषी पाए जाएंगे उन पर सख्त कार्रवाई की जाएगी।

 यदुवंश राम, डीईओ, अरवल

कोई टिप्पणी नहीं

Type you comments here!