Breaking News

जमुई के साथ राज्य की शान बने डॉ. शंकर नाथ झा: डीएम।

 


जमुई से सुशील कुमार की रिपोर्ट

जिलाधिकारी अवनीश कुमार सिंह ने जमुई के जाने - माने शिशु रोग विशेषज्ञ डॉ. शंकर नाथ झा को मुख्यमंत्री नीतीश कुमार के द्वारा पुरस्कृत किए जाने पर अशेष बधाई दी है। उन्होंने उन्हें शिक्षा का सर्वोच्च सम्मान मौलाना अबुल कलाम आजाद पुरस्कार से सम्मानित किए जाने पर गर्व महसूस करते हुए कहा कि वे जमुई के साथ राज्य की शान बन गए हैं। श्री सिंह ने आगे कहा कि डॉ. झा ने समाज के अंतिम पायदान पर खड़े मुसहर समाज के बच्चों को शिक्षित बनाने का जो बीड़ा उठाया है, वह अनुकरणीय है। उन्होंने जोर देकर कहा कि उनका अमूल्य प्रयास समाज को सकारात्मक कार्य करने के लिए प्रेरित करेगा। पुलिस अधीक्षक प्रमोद कुमार मंडल ने चिकित्सा के साथ शिक्षा के क्षेत्र में अपनी अलग पहचान बनाने वाले डॉ. एस. एन. झा को हृदयतल से बधाई देते हुए कहा कि मुसहर समाज में शिक्षा का अलख जगाना सचमुच में अद्वितीय कार्य है। उन्होंने उनके विकासवादी सोच की जमकर तारीफ करते हुए कहा कि डॉ. झा के प्रयास से महादलित समुदाय के 5500 से अधिक बच्चे पढ़ - लिख रहे हैं जो सचमुच में प्रेरणादायी है। डीडीसी आरिफ अहसन ने डॉ. झा को अनंत बधाई देते हुए कहा कि उन्होंने दबे - कुचले लोगों के प्रति विनम्रता, करूणा और सेवा का भाव प्रदर्शित कर अपने विराट व्यक्तित्व को परिभाषित किया है। वे मौलाना अबुल कलाम आजाद पुरस्कार के वास्तविक हकदार हैं। श्री अहसन ने उनके उज्ज्वल भविष्य की कामना करते हुए लोगों को उनके कार्यों को आत्मसात करने का संदेश दिया।

 नामचीन समाजसेविका डॉ. स्मृति पासवान ने अपने बधाई संदेश में कहा कि डॉ. झा को मुख्यमंत्री के द्वारा शिक्षा का सर्वोच्च अलंकरण से अलंकृत किया जाना गर्व की बात है। वे केवल एक प्रसिद्ध चिकित्सक नहीं वरन एक कुशल समाजसेवी भी हैं। डॉ. झा दशकों से निःस्वार्थ भाव से बिना थके जमुई के लोगों की सेवा करने के साथ जिला तथा राज्य के विकास में अहम योगदान दे रहे हैं। वे सही रूप में बुद्धिमान और बौद्धिक हैं। शिक्षा का सर्वोच्च सम्मान दिए जाने पर मुझे खुशी है। डॉ. झा को कोटिशः बधाई। जिला विधिज्ञ संघ के अध्यक्ष अश्विनी कुमार यादव, महासचिव विपिन कुमार सिन्हा, पूर्व लोक अभियोजक शिशिर कुमार दुबे, विद्वान अधिवक्ता विभा कुमारी, डॉ. नंदकिशोर प्रसाद यादव आदि ने भी डॉ. झा को बधाई देते हुए कहा कि उनकी मेहनत और समर्पण से शिक्षा के क्षेत्र में बिहार का मान बढ़ा है जो हर लोगों के लिए हर्ष की बात है।

कोई टिप्पणी नहीं

Type you comments here!