Breaking News

सिविल सेवा में सफलता के लिये कठिन मेहनत व दृढ़ संकल्प जरूरी


नालंदा संवाददाता

दृढ़ इच्छाशक्ति और लगन हो तो कोई भी परीक्षा उतीर्ण करना कठिन नहीं है। यूपीएससी की परीक्षा में सफल होने के लिए किसी भी विषय का समग्र अध्यन जरूरी है। उदाहरण के लिए जब आप हिमालय से निकलने वाली नदियों एवं प्रायद्वीपीय पठार की नदियों में अंतर पढ़ रहे होते हैं, तो ये भी पढ़ें की इन नदियों का संबंधित क्षेत्र में सामाजिक, संस्कृतिक और आर्थिक प्रभाव क्या पड़ा। 

       उपरोक्त बातें पटना विश्वविद्यालय के पूर्व कुलपति प्रो.(डॉ.) आरबी सिंह ने शनिवार को बिहार शरीफ के आईएमए हॉल में आयोजित सेमिनार में कही। 


'यूपीएससी : चुनौती एवं संभावनायें' विषय पर आयोजित सेमिनार में संयुक्त आयुक्त, आयकर विभाग रंजीत कुमार मधुकर, बीपीएससी के पूर्व सदस्य प्रो. डीएन शर्मा, पटना विश्वविद्यालय के फिलॉसफी विभाग के पूर्व विभा गाध्यक्ष प्रो. आरएन दिवाकर, नालंदा के जिला शिक्षा पदाधिकारी केशव प्रसाद, प्रो. अश्विनी कुमार समेत कई गणमान्य वक्ताओ ने भाग लिया। कार्यक्रम में संयुक्त आयुक्त, आयकर विभाग श्री मधुकर (आईआरएस) ने कहा कि इस कठिन परीक्षा की तैयारी के लिए सतत व गहन अध्ययन आवश्यक है। उन्होंने कहा कि इस कठिन परीक्षा की तैयारी के लिए सम्पूर्ण समर्पण की जरूरत है। प्रत्येक रात सोने से पहले आप अपना मूल्यांकन करें कि क्या आप इससे और अधिक मेहनत कर सकते थे या नहीं। और यही सवाल आपको हर परीक्षा के बाद अपने आप से करना है। मेरा दावा है कि आपको हर बार यही जवाब मिलेगा कि हां मैं और मेहनत कर सकता था। जिस दिन आप अपने जवाब से स्वयं संतुष्ट हो जायेंगे, आपको आईएएस बनने से कोई नहीं रोक सकता। इस मौके पर प्रो. डीएनए शर्मा ने कहा कि इस संस्थान में वे तमाम सुविधाएं उपलब्ध कराई जा रही है जो देश के प्रतिष्ठित कोचिंग संस्थानों में मिलती है। 


प्रो. आरएन दिवाकर ने कहा कि आप मेहनत करिये, हम मार्गदर्शन करेंगे। जिला शिक्षा पदाधिकारी श्री केशव प्रसाद ने अभियान 40 (आईएएस) के कार्यों की सराहना करते हुए हर संभव मदद का आश्वासन दिया। कार्यक्रम का संचालन प्रमोद कुमार ने जबकि धन्यवाद ज्ञापन संस्थान के निदेशक बिलास कुमार ने किया।

कोई टिप्पणी नहीं

Type you comments here!