Breaking News

बालम पोखर में अस्ताचल सूर्यदेव को दिया गया अर्घ्य


नालंदा संवाददाता

लोक आस्था का पर्व छठ पूजा के तीसरे दिन अस्ताचल भगवान भास्कर को पूरी श्रद्धा के साथ अर्घ्य दिए। इस अवसर व्रत कर रही है नीलम देवी ने बताया कि छठ पूजा हीं हिन्दू धर्म में एक ऐसा पूजा है जो सीधे प्रकृति से जुड़ा है। जो धरती पर जीवन के लिए महत्वपूर्ण सूर्यदेव व जलदेव की बिना किसी लाग-लपेट की जाती है।

कई गांव से आते है श्रद्धालु


इस ऐतिहासिक बालम पोखर का संबंध पालकल से है जिसके एक छोर पर भगवान बुद्ध की विशाल प्रतिमा स्थित है। यहाँ तेतरावां के अलावे कुटौनियापर,कायमपुर,आमदाहा,दरियापुर व अन्य जगहों से लोग वर्षों से आते रहे हैं।

सुबह होगी जलपान की व्यवस्था


मनमोहन नाथ नाट्य मंडली के संचालक मुन्ना पाण्डेय ने इस अवसर पर बताया कि कल सुबह 5 बजे से सभी आगंतुकों के चाय,शुद्ध पानी,शर्बत व व्रतियों के लिए रसगुल्ला की व्यवस्था की गई है। इसके लिए पूरी तैयारी कर ली गई है और युवाओं की टोली पूरी तरह मुस्तैद रहेगी साथ हीं कोई अप्रिय घटना न हो इसके प्रशासन भी मौजूद रहेगी।

कोई टिप्पणी नहीं

Type you comments here!