Breaking News

महिलाओं ने अक्षय नवमी व्रत पर की आंवला वृक्ष की पूजा


बिक्रमगंज
(रोहतास)। अनुमंडल क्षेत्र अंतर्गत सभी प्रखंडों में शनिवार को अक्षय नवमी पर श्रद्धालुओं ने आंवला के वृक्ष की पूजा अर्चना की । इस अवसर पर महिलाओं ने व्रत भी रखा । बिक्रमगंज नगर परिषद के वार्ड संख्या 21 धारुपुर गांव सहित सभी प्रखंडों के अन्य शहरी एवं ग्रामीण क्षेत्रों में व्रती महिलाओं ने सुबह में स्नान करने के बाद आंवला पेड़ पर कच्चा दूध, हल्दी, रौली लगा इसके बाद वृक्ष की परिक्रमा कर मौली बांधी । वैदिक मंत्रोच्चारण के बीच व्रतियों ने संतान प्राप्ति व सुख-सौभाग्य प्राप्ति की कामना के साथ नवमी तिथि को आंवला वृक्ष में विराजमान भगवान श्री हरि व भगवान शिव की शास्त्रोक्त षोडशोपचार विधि से आंवला वृक्ष की 108 बार परिक्रमा कर रक्षा सूत्र लपेट पूजा अर्चना की। सामूहिक पूजन, वृक्ष की परिक्रमा उपरांत श्रद्धा पूर्वक दान पुण्य किया ।ललिता देवी, फूलवंती देवी , पम्मी दुबे , बंदना पांडेय , रेनु कुंवर , तारा कुंवर , निक्कू सिंह , सुनीता सिंह ने बताया कि भगवान श्री हरि व भगवान शिव की पूजा अर्चना कर अपने संतान व सुख - सौभाग्य प्राप्ति की कामना की गई ।वहीं दूसरी ओर प्रखंड नासरीगंज ,काराकाट , सूर्यपुरा , संझौली , राजपुर में भी महिलाओं ने आंवला वृक्ष की पूजा कर भतुआ में द्रव्य रख ब्राह्मणों को गुप्त दान किया तथा अक्षय नवमी व्रत कथा का श्रवण भी किया । नगर के ठाकुरबाड़ी मंदिर के परिसर में महिलाओं ने आंवला वृक्ष की परिक्रमा करते हुए धागा बांधा और वृक्ष के नीचे परिवार समेत प्रसाद ग्रहण किया । पंडित हरिशरण दुबे ने बताया कि अक्षय नवमी कथा के अनुसार आंवला वृक्ष के नीचे भोजन बना भगवान विष्णु को भोग लगाने के पश्चात परिवार समेत भोजन करने से सभी प्रकार के कष्ट दूर होते हैं । पूजन के दौरान शुभ राज , संस्कार , श्रेया उर्फ पलक , रूचि कुमारी , संकल्प सहित अन्य व्रति लोग उपस्थित थे ।

कोई टिप्पणी नहीं

Type you comments here!