Breaking News

शहीद धर्मेंद्र का पार्थिव शरीर आते ही अंतिम दर्शन के लिए उमड़ा जनसैलाब


बिक्रमगंज(रोहतास)
। आठ नवंबर को सुबह में संझौली प्रखंड के चवर डिहरी गांव के मूल निवासी शहीद धर्मेंद्र कुमार की हुयी शहादत अपने ही बटालियन के साथी द्वारा चलाई गई गोली से हो गई थी । शहादत की खबर जिले सहित पूरे प्रखंड को झकझोर कर रख दिया । उक्त खबर पूरे इलाके में आग की तरह फैल गई । लोग पीड़ित परिवार को ढाढ़स दिलाने के लिए दरवाजे पर जूटते रहे । शहीद के बच्चे , पत्नी और पिता की हाल छेम पूछते रहे लेकिन ज्यो ही नौ नवंबर को शहीद का पार्थिव शरीर उनके पैतृक गडूरा गांव पहुंचा हजारों हजार की संख्या में लोग दर्शन के लिए जनसैलाब उमड़ पड़ा । लोगों के मुंह से एक ही आवाज आ रही थी , 'जब तक सूरज चांद रहेगा धर्मेंद्र तेरा नाम रहेगा ' भारत माता की जय , भारत माता की जय , सुनाई दे रही थी । धर्मेंद्र के भाई मुन्ना कुमार ने बताया कि भाई की शादी 2011 में नासरीगंज थाना अंतर्गत बसड़ीहा गांव में शिव बचन सिंह यादव की पुत्री सुनीता कुमारी से हुई थी । शादी के लगभग तीन वर्ष पूर्व ही धर्मेंद्र की नौकरी 2008 में सीआरपीएफ में हो चुकी थी । नौकरी में जाने के कारण धर्मेंद्र की शादी बड़े ही धूमधाम से हर्ष उल्लास के साथ की गई थी , जिस शादी का याद आज भी परिजनों के जेहन में घूम जा रहा है ।एक तरफ शादी की उत्सव जेहन में तो दूसरी तरफ शहादत का दुख परिवार वालों को झकझोर रहा है , शहीद के पिता रामबचन सिंह कहते हैं बिधना को यही पसंद थी ।


शहीद का पार्थिव शरीर पंचतत्व में हुआ विलीन 

 


शहीद का पार्थिव शरीर 9 अक्टूबर को उनके पैतृक गडुरा गांव 9:00 बजे देर शाम पहुंचा । हजारों की संख्या में जुटे लोगों ने शहीद के पार्थिव शरीर पर पुष्पांजलि अर्पित कर नमन करते रहे , मध्य रात्रि तक पुष्प अर्पित और नमन करने का सिलसिला चलता रहा , जिस कारण दूसरे दिन 10 अक्टूबर को सुबह शहीद धर्मेंद्र के पार्थिव शरीर का राजकीय सम्मान के साथ अंतिम दाह संस्कार पैतृक गांव गडूरा में ही किया गया । सुबह 9:45 बजे शहीद के छः वर्षीय बेटे सिंटू राज ने अपने पिता को मुखाग्नि देकर पंचतत्व में विलीन किया । वही बिहार पुलिस सहित अर्धसैनिक बल के जवानों ने शहीद के पार्थिव शरीर पर फूलमाला अर्पित कर श्रद्धांजलि देते हुए आठ चक्र गोलियां दागकर सेल्यूट देते हुए अंतिम विदाई दिया ।


लोगों ने दी श्रद्धांजलि 



शहीद धर्मेंद्र के पार्थिव शरीर पर लोगों ने दी श्रद्धांजलि , श्रद्धांजलि देने वालों में पत्नी सुनीता कुमारी , शहीद के भाई मुन्ना सहित तीनों भाई , पिता राम बचन सिंह , जिला पार्षद सदस्य वंदना राज , इंजीनियर प्रभात कुमार , विधायक अरुण सिंह , सीआरपीएफ कमांडेंट विजेंद्र सिंह भाटी , रायपुर से आए सीआरपीएफ कमांडेंट आशीष कुमार , मुजफ्फरपुर से आए इंस्पेक्टर वसीऊदीन , बीडीसी सदस्य डॉ मधु उपाध्याय , प्रखंड विकास पदाधिकारी सैयद सरफराजूद्दीन अहमद , सीओ विनय शंकर पंडा , थानाध्यक्ष शंभू कुमार व बड़ी संख्या में पहुंचे गणमान्य सहित सैकड़ों ग्रामीणों ने श्रद्धांजलि दिया ।

कोई टिप्पणी नहीं

Type you comments here!