Breaking News

नीतीश कुमार के शराबबंदी को बताया सार्थक।


वैशाली जिला ब्यूरो एवं संतोष कुमार की रिपोर्ट

लालगंज जदयू अल्पसंख्यक सेल के प्रखंड अध्यक्ष इंजीनियर इफ्तेखार अहमद ने बिहार के मुख्यमंत्री नीतीश कुमार की समीक्षा बैठक में अवैध तरीके से हो रहे हैं शराब कारोबार को रोक लगाने के लिए पुलिस अधीक्षक, थाना अध्यक्ष और चौकीदार तक को जवाब देही बनाने के निर्णय को स्वागत योग कदम बताया है। बिहार में 1 अप्रैल 2016 को पूर्ण शराबबंदी लागू की गई थी। जिसका पुरुष एवं महिला दोनों ने इस निर्णय का स्वागत कदम बताया था। शराब पीने के कारण मृत्यु दर टीवी ,एचआईवी एड्स, मधुमेह से होने वाले मृत्यु दर से अधिक है। आत्महत्या के कुल 18% आपसी झगड़े का 18% सड़क दुर्घटना में 27% और 13% मामले शराब के सेवन से होते थे। 20 से 39 साल के युवा पीढ़ी शराब के कारण अधिक मौतें होती थी। परिवारिक हिंसा में भी कमी आई है और पारिवारिक जीवन में भी सुधार हुआ है और लोगों की आर्थिक स्थिति भी सुधरी है।

कोई टिप्पणी नहीं

Type you comments here!