Breaking News

एक दिसम्बर को बिहार विधान सभा सत्र के दौरान ग्रामीण चिकित्सक करेंगें आन्दोलन-- डॉ.मौर्य


दावथ
(रोहतास)  बिहार के तमाम सीसीएच व सीएचडबलू सर्टिफिकेट धारी    ग्रामीण चिकित्सकों अपनी स्वास्थ्य सेवा नियुक्ति सम्बन्धी व बिभिन्न मांगों के लेकर आगामी बिहार विधान सभा सत्र के दौरान एक दिसंबर को  आंदोलन और शक्ति प्रदर्शन करेंगें। पिछले विधान सभा सत्र के दौरान सीपीआई एम एल के क्रांतिकारी विधायक डॉ.अजीत कुमार कुशवाहा ने ग्रामीण चिकित्सकों की मांग को पुरजोर तरीके से उठाई थी,इस बार इन्ही के सानिध्य में सूबे के बिभिन्न ग्रामीण चिकित्सकों के संगठन एक साथ एकजूट होकर सरकार के भ्रष्ट स्वास्थ्य नीतियों के विरोध में विधान सभा के घेराव कर प्रदर्शन करेंगी उक्त बातें राष्ट्रीय संरक्षक डॉ जीतेन्द्र नाथ मौर्य ने मीडिया को सम्बोधित करते हुए कहा की राज्य स्वास्थ्य समिति एवं एनआईओएस के संयुक्त तात्वाधान मे लगभग 21000 हजार ग्रामीण चिकित्सक सामुदायिक स्वास्थ्य प्रदाता पाठ्यक्रम पास है इनसबो को सरकार ने मौखिक वादा किया था की राजकीय स्वास्थ्य व्यवस्था में नियुक्त करेंगें किन्तु अब सरकार चूपी साधे हुई है।बिहार में इस कोर्स का न तो कोई रेगुलेटरी बना है न हि कोंसिल।

 बिभिन्न ग्रामीण चिकित्सकों के संगठन के सचेतक डॉ अरविन्द पंडित,डॉ संजय कुमार,डॉ मिथलेश चौबे,डॉ समसाद आलम,डॉ सचिंद्र द्विवेदी,डॉ रवि प्रकाश यादव, डॉ अरून कुमार शर्मा,डॉ एस के ठाकुर,डॉ नशीम अहमद,डॉ सुनील कुमार,डॉ मिथलेश कुमार,डॉ एस कैफी,डॉ नागेंद्र कुशवाहा,डॉ राजकुमार शर्मा, डॉ कुंदन माथूरी,डॉ विजयकांत,डॉ रघुबंश मिश्रा, आदि ने संयुक्त ब्यान जारी कर कहा की अगर बिहार सरकार हमारी मांगे पुरी नहीं करती तो हमलोग विधान सभा से संसद भवन तक प्रदर्शन करेंगें।विधान सभा घेराव के लिए 01/12/2021 दिन के 11 बजे से धरना स्थल गर्दनीबाग पटना ज्यादा से ज्यादा संख्या में पहुँचे और सामुदायिक  स्वास्थ्य चिकित्सा सेवा में नियुक्ति हेतू शक्ति प्रदर्शन करें।अपने सम्बन्ध में कानून बनवायें।

कोई टिप्पणी नहीं

Type you comments here!