Breaking News

आधुनिक दुग्ध उत्पादन एवं पशुपालन विषय पर तीन दिवसीय प्रशिक्षण


बिक्रमगंज
(रोहतास)कृषि विज्ञान केंद्र रोहतास में 19 नवंबर 2021 को तीन दिवसीय आधुनिक दुग्ध उत्पादन एवं पशुपालन विषय पर प्रशिक्षण की शुरुआत की गई । इस प्रशिक्षण में रोहतास जिले के विभिन्न प्रखंडों के 32 पुरुष एवं 08 महिला कृषक भाग ले रहे हैं । प्रशिक्षण का उद्घाटन प्रभारी वरीय वैज्ञानिक एवं प्रधान आर के जलज ने दीप प्रज्वलित कर किया ।उन्होंने कहा कि सिर्फ 6 मवेशी रखकर कोई भी मवेशी पालक ₹30000 की आमदनी प्रतिमाह प्राप्त कर सकते हैं । यदि व्यवसाय के रूप में दुग्ध उत्पादन हेतु इसे अपनाना है तब कम से कम कृषकों को 10 गाय का पालन करना चाहिए । पशु वैज्ञानिक डॉक्टर आलोक भारती ने प्रशिक्षण के दौरान नए नस्लों की जानकारी, आधुनिक आवास, उत्तम खानपान एवं स्वास्थ्य प्रबंधन के विषयों पर विस्तार पूर्वक कृषकों को जानकारी दी ।


 कार्यक्रम में उपस्थित डॉक्टर रामाकांत सिंह ने हरे चारे के रूप में इस्तेमाल किए जाने वाले एजोला की विस्तृत रूप से जानकारी दी । एजोला का इस्तेमाल हरे चारे के रूप में करने से गाय में दुग्ध उत्पादन में अपेक्षित बढ़ोतरी हो जाती है । डॉ रतन कुमार ने उपस्थित कृषकों को संबोधित करते हुए समेकित मवेशी पालन विषय पर जानकारी दी । उन्होंने सहजन की खेती के बारे में बताया उसके पत्तों एवं फूलों को पशु चारे के रूप में इस्तेमाल करने से गाय के दूध में अच्छी बढ़ोतरी होती है । प्रशिक्षण के दौरान कंप्यूटर प्रोग्रामर हरेंद्र कुमार द्वारा गौपालन पर वीडियो प्रदर्शित किया गया । इस कार्यक्रम में अभिषेक कौशल, सुबेश कुमार, राकेश कुमार एवं कृषकों में पिंटू तांती , चंद्रशेखर कुमार, प्रतिमा देवी, रेखा देवी, नारद मुनि सिंह, अखिलेंद्र प्रताप, धर्मेंद्र राय, कुसुम कुमारी, विकास भारती, सुरेंद्र सिंह, सनीकांत तिवारी, श्रीराम सिंह सहित अन्य किसान उपस्थित थे ।

कोई टिप्पणी नहीं

Type you comments here!