Breaking News

डंपिंग ग्राउंड बना चुनावी मुद्दा



यूपी हापुड़ से विशू अग्रवाल की रिपोर्ट

 विधानसभा चुनावो से पूर्व गांव गालंद में डंपिग ग्राउन्ड निर्माण सत्ता पक्ष एवं सियासत के लिए मुश्किल कार्य है। प्रकरण को लेकर भाजपा नेताओं ने सीएम योगी से गुहार लगाई है कि धौलाना विधानसभा क्षेत्र में हार की हैट्रिक से बचने को मामला ठंठे बस्ते में डाला जाना चाहिए। क्योंकि विगत 2 विधानसभा चुनावो में पार्टी यहां से पराजित हुयी है। बतादें वर्ष 2017 के विधानसभा चुनावो मे साठा 84 राजपूत बाहुल्य गांवों में भाजपा के पूर्व सांसद रमेश चन्द तोमर को बसपा के असलम चौधरी ने हराया था। जबकि इससे पूर्व 2012 में सपा के धर्मेश तोमर से भाजपा को हार का सामना करना पडा है।

 क्षेत्रीय भाजपा जिलाध्यक्ष उमेश राणा ने जानकारी दी कि केन्द्रीय मंत्री वीके सिंह की लोकसभा क्षेत्र में आ रहे गांव के लोग लगभग दो महीने से धरना स्थल पर बैठे है जिसमे विपक्ष अपना समर्थन दे रहा है विधायक असलम आगामी विधानसभा चुनावो केा लेकर बसपा छोडकर सपा में पूर्व में आ चुके है। रालोद के साथ मिलकर चुनाव लडने की घोषणा से सपा और मजबूत होगी। ऐसे में दर्जनो गांवो के हजारो लोगों का विरोध पार्टी को भारी नुकसान पहुंचाएगा। भाजपा नेता व पूर्व विधायक धर्मेश तोमर , ब्लाक प्रमुख निशांत शिशौदिया आदि का कहना है कि चुनावी हित में डम्पिंग ग्राउन्ड रोकना होगा । जमीन गाजियाबाद नगर निगम की है लेकिन जनहित में गलत कार्य नहीं होने देंगे। वहीं विधायक असलम का कहना है कि गाजियाबाद का डम्पिंग ग्राउन्ड अपने विधानसभा में हर्गिज नहीं बनने देंगे। 

इसके अलावा आप के सीएम चौहान व कांग्रेस के सतीश शर्मा भी डम्पिंग ग्राउन्ड के खुलेआम विरोधी है। वेस्ट टू एनर्जी प्लान्ट की सवा चौवालिस एकड भूमि की चार दीवारी 24 नवम्बर को ग्रामीणो द्वारा ढाह देने पर निगम ने सैंकडो के खिलाफ 10 लाख रूपये के नुकसान को लेकर मुकदमा दर्ज कराया था। ग्रामीणो में दहशत पैदा करने को दो कम्पनी पीएसी को पुलिस के साथ तैनात कर प्रशासन ने सौ से ज्यादा को पांच पांच लाख रूपये के मुचलको पर पाबन्द किया। वहीं ग्रामीणो को भयभीत करने को उनके शस्त्र लाइसेंस निरस्तीकरण की कार्यवाही चालू कर सोमवार को निर्माण की घोषणा विफल रहीं । एसडीएम सुनीता सिंह ने बताया कि शासन व अधिकारियो के आदेश पर ही कार्यवाही होगी ।

कोई टिप्पणी नहीं

Type you comments here!