Breaking News

खाद नहीं मिलने से किसान परेशान, ब्लैक में अधिक दाम पर खाद बिक्री

  • खाद के लिए लाइन में लगे रहें किसान 


बिक्रमगंज
( रोहतास) अनुमंडल क्षेत्र के अंतर्गत सभी प्रखंडों के सभी किसान खाद की किल्लत से जूझ रहे है । किसान खाद के लिए दिन - दिन भर बिना खाना खाए सुबह से ही बिस्कोमान खाद गोदाम पर लाईन लगे रहते हैं और बिना खाद लिए शाम होते ही घर चले जाते है । यही यहां हालात प्रतिदिन का है । काराकाट सांसद महाबली सिंह ने कुछ ही दिन पूर्व दावा किए थे कि क्षेत्र में खाद की कमी नहीं होगी , लेकिन अब तक खाद उपलब्ध नहीं हो पाया । रवि फसल की बुवाई जोरों पर है लेकिन कुछ किसान बिना खाद के रवि फसल बोने को मजबूर हैं । कुछ किसान ब्लैक में खाद लेकर रबी के बीज की बुवाई कर रहे हैं । 

सबसे बड़ा सवाल यह है कि क्षेत्र के दर्जनों दुकानों पर दुगुने दाम पर ब्लैक में खाद बिक्री हो रही है लेकिन इसकी फिक्र न अधिकारियों की है न ही जन प्रतिनिधियों की । कृषि विभाग के अधिकारी बिल्कुल मौन है । ऐसे में किसान लेने पर मजबूरी में दुगुने दाम पर खाद लेने को मजबूर हैं । सरकारी गोदाम पर बिस्कोमान भवन पर खाद आता है लेकिन किसानों को मिलना मुश्किल हो जाता है क्योंकि बिस्कोमान का मैनेजर आधार कार्ड पहले जमा कर लेता है और चिन्हित किसानों को खाद वितरण करता है । काराकाट प्रखंड क्षेत्र से आये कुछ किसान देवेंद्र कुमार सिंह, रामदेव सिंह, राजा राम सिंह , नीरज सिंह, परशुराम पासवान सहित दर्जनों किसानों ने कहा कि सुबह से ही काराकाट बिस्कोमान भवन पर लाइन लगाकर खड़े हैं लेकिन खाद नहीं मिल रहा है जो कुछ खाद आया है वह गलत तरीके से वितरित किया जाता है । किसी को पांच पैकेट तो किसी को आठ पैकेट चुपके से एलॉट कर वितरित कर दिया जाता है । 

हम लोग सुबह से लाइन में लगे हैं लेकिन खाद नहीं मिल रहा है । किसान देवेंद्र कुमार सिंह का कहना है कि काराकाट के सांसद महाबली सिंह ने काराकाट क्षेत्र में खाद की कमी नहीं होने की बात कही थी और बहुत जल्द क्षेत्र में किसानों को खाद मिल जाएगा । लेकिन रवि फसल की बुवाई जोरों पर है लेकिन खाद किसानों को नहीं मिल रहा है । अगर रबी की बुआई हो गई तो ऐसे में डीएपी खाद की उपलब्धता हो गई तो कोई फायदा नहीं होगा । किसान रामदेव सिंह का कहना है कि बिस्कोमान में जो भी खाद जाता है वह आधार कार्ड लेकर बिस्कोमान मैनेजर चुपके से खाद एलॉटमेंट करता है हम लोग लाइन में लगे रहते हैं । कई दिनों से खाद नहीं मिल रहा है । नीरज सिंह ने बताया कि प्रशासन के मिलीभगत से खाद की बिक्री व कालाबाजारी जोरों पर है । किसान परशुराम सिंह, अजीत सिंह ने केंद्र सरकार से लेकर राज्य सरकार जानबूझ कर किसानों को परेशान करती है । 

किसानों ने आरोप लगाया कि सरकारी अधिकारी की मिली भगत से खाद की कालाबाजारी जारी है । किसानों का कहना है कि काराकाट सांसद महाबली सिंह ने केंद्र के मंत्री खाद उर्वरक व रसायन मंत्री को खाद उपलब्ध कराने का पत्र लिखा था , लेकिन आज तक खाद नहीं आया ।किसान नीरज सिंह, परशुराम पासवान ने कहा कि डीएपी 1800 रु में तथा यूरिया 400 रु में ब्लैक में कहीं भी मिल रहा है लेकिन सरकारी दुकान पर खाद नहीं मिल रहा है । किसानों में खाद नहीं मिलने से काफी आक्रोश व्याप्त है ।

कोई टिप्पणी नहीं

Type you comments here!