Breaking News

वैशाली में दलित उत्पीड़न की घटना चरम सीमा पर: ललन राम

  • दलितों के सुरक्षा में जिला प्रशासन विफल। 


वैशाली
जिला जंदाहा प्रखंड के तिसिऔता थाना क्षेत्र के अंतर्गत शाहपुर ग्राम में हुए दलित समाज की बेटी की हत्या एवं अमानवीय कृत्य को लेकर दलित पैंथर बिहार टीम ने जिला अध्यक्ष सुनील रविदास के नेतृत्व में ग्यारह सदस्यी टीम के द्वारा पीड़ित शोकाकुल परिवार से मिलकर ढांढस दिलाते हुए संतावना दी गई। इस जघन्य हत्याकांड की घोर निंदा करते हुए दलित पैंथर के प्रदेश अध्यक्ष ललन राम ने कहा की यह अमानवीय घटना मानवता को कलंकित करने वाला घटना है और सभ्य समाज के ऊपर तमाचा है वैशाली जिले में दलितों पर अत्याचार चरम सीमा पर है।इसे रोकथाम के लिए राज्य सरकार अनुसूचित जाति आयोग का गठन करें। दलितों के सुरक्षा में वैशाली जिला प्रशासन पूरी तरह विफल साबित हो गया है।वैशाली जिले में दलित उत्पीड़न की घटनाएं मैं लगातार वृद्धि हो रही है।पीड़ित परिवार को और पीड़िता को न्याय दिलाने तक दलित पैंथर बिहार में आंदोलित रहेगा इसी क्रम में दलित पैंथर बिहार के बैनर तले न्याय मार्च यात्रा रविवार को जिला मुख्यालय हाजीपुर नगर में निकाला जाएगा। श्री राम ने शोकाकुल परिवार से मिलकर मौके पर ही अनुसूचित जाति अत्याचार अधिनियम के तहत मुआवजा राशि को लेकर जिला कल्याण पदाधिकारी, जंदाहा कल्याण प्रखंड पदाधिकारी से दूरभाष पर बातें करके 24 घंटे के अंदर पीड़ित परिवार को मुआवजा राशि दिलाने की व्यवस्था सुनिश्चित कराने का अनुरोध किया जिस पर जिला कल्याण पदाधिकारी ने अभिलंब मुआवजा राशि पीड़ित परिवार तक पहुंचाने का ठोस आश्वासन दिया। बाद में दलित पैंथर का प्रतिनिधी मंडल टीम ने तिसऔता थाना में जाकर पुलिस पदाधिकारी से इस केस में हुए प्रगति पर जानकारी मांगा तो पुलिस पदाधिकारी अजय पासवान ने प्रतिनिधिमंडल टीम को बताया कि इस घटना में दो की गिरफ्तारी हो चुकी है।मुख्य आरोपी अनुराग कुमार एवं अंशु कुमार को गिरफ्तार कर जेल भेजा गया है और बाकी अभियुक्तों की गिरफ्तारी के लिए छापेमारी जारी है। इस अवसर पर दलित पैंथर बिहार के प्रदेश सचिव राम पुकार चौधरी ने जिला प्रशासन से मांग किया की पीड़ित परिवार को अनुग्रह राशि एवं उचित कार्रवाई करते हुए बाकी शेष बचे अभियुक्तों की गिरफ्तारी और समुचित सुरक्षा व्यवस्था का भी मांग करते हैं। प्रदेश संगठन सचिव वीरेंद्र नाथ ने कहा कि आज दलित परिवार की बेटी जो खुले में शौच करने का शिकार हो गयी। बिहार के मुख्यमंत्री जी सात निश्चय अंतर्गत हर घर शौचालय का नारा दिए लेकिन आज भी दलित की जो आबादी है उसमें 70% शौचालय विहीन मकान है अभी जो घटना हुआ है जो बलात्कार कर हत्या करके फेंका गया है इसका जिम्मेदार वहां के प्रखंड विकास पदाधिकारी और वहां के थानेदार है। हम सरकार से मांग करेंगे की पीड़ित परिवार को न्याय दिलाने में आगे आए और जो दोषी है उसे निर्भया कांड की तरह उसे भी फांसी की सजा दी जाए।इस अवसर पर दलित पैंथर बिहार के प्रदेश अध्यक्ष ललन राम के अलावे प्रदेश संगठन सचिव वीरेंद्र नाथ प्रदेश सचिव एवं पुकार चौधरी प्रदेश कार्यसमिति सदस्य अर्जुन कुमार रघुनंदन राम दलित पैंथर वैशाली के जिला अध्यक्ष सुनील रविदास, विक्की रजक अंबेडकर विकास मंच के प्रदेश सचिव रमेश रजक आदि समेत अनेकों लोगों ने इस घटना की घोर निंदा की।

कोई टिप्पणी नहीं

Type you comments here!