Breaking News

डेन काशी के पत्रकार का फर्जी तहरीर का हुआ खुलाशा


चंदौली नौगढ़ संवाददाता लक्ष्मीकांत विश्वकर्मा की रिपोर्ट

  वाराणासी के रहने वाले पत्रकार डेन काशी नें दलाली का हद पार कर दिया अपने आप को रिपोर्टर बताने वाले हासिम पुत्र इस्माइल को 70हजार रूपया अपने पुत्रों को पंजाब में बंद छुङाने हेतु दिया था    कथातिथ है कि कासिम पुत्र रमजान के छोटे बेटे ने पंजाब काम के तलाश में गया था वहा काम मिल जानें के बाद वह किसी लङकी को फंसा लेता है और वहां से तकिया सोनभद्र भगा कर ले आता है वहां पंजाब में परिजनों द्वारा मुकदमा दर्ज कर वहां कीं पुलिस सोनभद्र जिला के तकिया में आकर पकङ ले जाती हैं उन लङको को छुङाने के लिए उनके गरीब माता-पिता से  70000हजार की मांग हासिम नें रखि मरता क्या न करता अपने कोम का व्यक्ति जान गांव वालों से चंदा माँगकर दे दिया काफी समय बाद लङको को छुङाने में असमर्थ रहे हासिम नें फोन उठाना बंद कर दिया तब गांव वालों को शंका पैदा हुआ तब तक हाल में कोई लङका किसी मामले में बंद हो गया।

 उसी का बहाना लेकर गांव वालों ने हासिम को पैसे का लालच देकर अपने गांव तकिया बुलाया और वह आगया गांव वालों ने पकड़ लिया उसी समय शर्तों के मुताबिक हासिम नें अपनी मोटरसाइकिल गिरवी के रूप में रखकर पैसे वापस करने का वादा किया था परंतु जालसाजी का खेल खेलने का प्रयास किया तों उसी पर भारी पड़ गया उसने पुलिस अधीक्षक को तहरीर देते हुए बताया की की नौगढ थाना क्षेत्र के किसी जंगल एरिया में किसी अनजान व्यक्ति के द्वारा हमारे साथ मारपिट व पर्स 65000रूपया मोटरसाइकिल छिन लिया गया है तत्काल पुलिस अधीक्षक ने एसोजी टीम लगाया उन टीम को खेल खेलाते फोन बन्द कर दिया तब पश्चात पत्रकारो ने जब खोज किया गया तो फर्जी खबर निकला जिसकी पुष्टि पर उल्टा कारवाई होना चाहिए पर प्रसासन चुप्पी साध कर बैठी है उधर पुलिस अधीक्षक को भी कोई बुद्धि नही सुझ रहा।

कोई टिप्पणी नहीं

Type you comments here!