Breaking News

उन्नाव जिले की थाना f चौरासी की पुलिस अपराध खोलने में लगातार नाकाम


उन्नाव जिला ब्यूरो चीफ अवधेश कुमार की रिपोर्ट

उन्नाव उन्नाव जिले की तहसील सफीपुर थाना f 84 के अंतर्गत 1 महीने तीसरी हत्या में लापता युवक की चाकू से गर्दन रेत हत्या, जांच में जुटी पुलिस ।

सैता थाना f 84 पहली घटना 23 दिसंबर दहेज के लोभीयोने चांद आलम उर्फ छोटू व उनके घर के कई अन्य सदस्यों ने बड़ी रहमी से पीट-पीटकर पत्नी को उतारा था मौत के घाट मुकदमा दर्ज होने के बाद भी अपराधी बेखौफ पुलिस दे रही है गिरफ्तारी का आश्वासन।

दूसरी घटना 30 दिसंबर अनीश जोकि इसको एक साजिश के तहत प्रधान द्वारा मौत के घाट उतारने का षडयंत्र रचा गया लेकिन यहां पर कई सवाल खड़े हुए एक पीड़ित ने प्रधान जी के खिलाफ मुंह खोलने की हिम्मत जुटा दी थी फिर न जाने सुबह होते होते ही मामला उलझता चला गया फिर कुछ लोगो दुवारा मालूम होता है कि जिस पीड़ित ने 2 दिन पहले कोटे की शिकायत की थी अब उसी पीड़ित को बलि का बकरा बनाया जा रहा है नाम के व्यक्ति ने उसके कोटे को लेकर उप जिलाधिकारी को शिकायती पत्र दिया था जिसकी जांच की बात सामने आई उसके अगले दिन अनीश की प्रधान के सो कदम दूरी पर उसके ही बनाए हुए पंचायती घर में 8:00 बजे उसको मुक्तक पड़ा पाया जाता है जहां उसकी घरवाली रात से ही प्रधान सहित कई लोगों पर आरोप लगाती है फिर अपने आरोपों को दरकिनार कर देती है अब देखिए उस महिला की अपनी कहानी सुबह होते ही कहती है कि मैंने किसी को देखा नहीं तो मैं किसको कह दूं सबसे बड़ा सवाल भी यहां पर यह उठता है कि प्रधान को ऐसी क्या आवश्यकता पड़ी जो कि अब अनीश की पत्नी को उसी दिन से अपने घर में रखना गवारा समझ रहा है जनता में सवाल यह उठता है कि एक प्रधान प्रतिनिधि एक समाज सेवक होता है जब 8:00 बजे ही इसकी भनक प्रधान जी को लग गई थी।

 तो रात में ही पुलिस को सूचना क्यों नहीं बताया सुबह 7:00 बजे क्षेत्रवासियों ने पुलिस को इनफॉर्म किया इसका मतलब प्रधान कहीं ना कहीं पर संदिग्ध है और प्रधान अब उस पीड़ित व एक पत्रकार पर दबाव बनाकर महिला पर जबरन एप्लीकेशन दिलवाने का काम करता है अगर इसकी हकीकत देखी जाए तो प्रधान के कई पुराने इतिहास पर नजर डाली जाए तो वाकई दूध का दूध और पानी का पानी हो जाएगा लेकिन पुलिस ना जाने क्यों हाथ डालने से घबरा रही है क्या इसको सत्ता का डर कहे या फिर किसी सत्ता धारियों का दबदबा ।

फतेहपुर चौरासी थाना क्षेत्र के गोपालखेड़ा गांव के रहने वाले लापता युवक का शनिवार दोपहर खेत में लहूलुहान शव पड़ा मिला। जानकारी होते ही गांव में सनसनी फैल गई। आशंका जताई जा रही कि चाकू से गर्दन रेतकर हत्या की गई है। सफीपुर सीओ व इंस्पेक्टर तथा फील्ड यूनिट टीम जांच पड़ताल कर रही है। सीओ अंजनी कुमार राय ने बताया कि जांच के बाद हत्या का कारण स्पष्ट हो सकेगा।

गोपालखेड़ा गांव का रहने वाला तीस वर्षीय संतोष लकड़ी कटान आदि का काम करता था। शुक्रवार की शाम से घर किसी काम को लेकर निकल गया था। रात घर न पहुंचने पर परिजन उसकी खोजबीन करते रहे। मगर शनिवार सुबह तक उसका कही कोई अता पता नहीं चल सका। दोपहर खेतों पर पहुंचे ग्रामीणों ने लहूलुहान हालत में युवक का शव पड़ा देखा तो हड़कंप मच गया।

ग्रामीणों ने शव की पहचान के बाद परिजन व पुलिस को सूचना दी। मौके पर पहुंचे इंस्पेक्टर अविनाश सिंह ने जांच के बाद उच्चाधिकारियों को मामले से अवगत करवाया।

जानकारी मिलते ही सीओ अंजनी कुमार राय मय फोर्स के घटनास्थल पर पहुंचे और डॉग स्कवायड व फील्ड यूनिट टीम को मौके पर बुलवा का साक्ष्य एकत्र किए गए। पुलिस ने मामले की जांच पड़ताल कर रही है। मृतक संतोष की मौत को लेकर पत्नी संगीता व तीन बच्चे शुभी, अरुण व नैना तथा भाई हरिश्चंद तथा गुड्डू आदि रो-रोकर बेहाल हैं।

कोई टिप्पणी नहीं

Type you comments here!