Breaking News

शहीद वेदी पर पुष्प अर्पित करने के बाद की सम्मेलन

ब्युरो रिपोर्ट 





खगड़िया // सीपीआईएम खगड़िया जिला के खगड़िया अंचल का २३वां लोकल सम्मेलन शहीद का० जगदीशचंद्र बसु नगर बेला,शहीद का० अशोक केशरी सभागार और का० अब्दुल अहद मंच से संचालित हुई। झंडोत्तोलन जिला सचिवमंडल के वरिष्ठ साथी का० हरेराम चौधरी ने किया। शहीद वेदी पर पुष्प अर्पित करने के बाद सम्मेलन की कार्यवयी का संचालन शिवजी महतो,सुरेन्द्र प्रसाद,मीरा देवी और विद्यानंद राय की चार सदस्यीय अध्यक्षमण्डली ने किया।सम्मेलन का विधिवत उद्घाटन पार्टी जिला सचिवमंडल सदस्य का० हारेराम चौधरी ने किया। उन्होंने उद्घाटन भाषण में तीनों काले कृषि कानून के मद्देनजर पिछले एक वर्ष से चल रहे किसान आंदोलन एवं उसमें केंद्र सरकार की  हार और किसानों के लंबे आंदोलन की जीत को खास कर रेखांकित किया। उन्होंने बिहार में बढ़ते अपराध,बेरोजगारी और भ्रष्टाचार में संलिप्तता को लेकर नीतीश कुमार की एनडीए सरकार को घेरा। किसानों के खाद की कालाबाजारी और धान की खरीद जो एमएसपी पे बड़े पैमाने पर करने का सरकार ने एलान किया वह डापोरसंखी साबित हो रहा है। बाद में लोकल सचिव का० केदार नारायण आजाद ने पिछले चार सालों के काम काज का लिखित प्रतिवेदन पेस किया, जिस पर १२ साथियों ने अपनी राय रख कर रिपोर्ट को समृद्ध किया।सम्मेलन ने अगले तीन शाल के लिए 21 सदस्यीय लोकल कमिटी का गठन किया। नई लोकल कमिटी ने सर्वसम्मति से केदार नारायण आजाद को पुन: सचिव चुन लिया। नई लोकल कमिटी के लिए सचिव के आलावे सुरेन्द्र प्रसाद,शिवजी महतो, उपेन्द्र महतो,चंद्रदेव महतो,मिथलेश केशरी,अनिल कुमार,अशोक पासवान,मुकेश कुमार,अवधेश कुमार,श्रवण साह,रामबिलाश वर्मा,मीरा देवी,नीतू देवी,रामदेव पोद्दार, कुन्दन मेहता,अजहर अंजुम, राजेन्द्र गाइड और अनिल कुमार वर्मा निर्वाचित हुए। सम्मेलन में अगले तीन सालों के लिए राजनैतिक और सांगठनिक लक्ष्य निर्धारित किए गए,अंचल भर से आए प्रतिनिधियों ने स्थानीय समस्याओं को चिन्हित कराया जिस पर आंदोलन का निर्णय लिया गया। बाद में लोकल सम्मेलन ने जिला सम्मेलन के लिए 51 प्रतिनिधीयों का भी चुनाव किया। सम्मेलन का समापन पार्टी जिला सचिव संजय कुमार ने किया। समापन करते हुए उन्होंने पार्टी के सभी साथियों से कहा तीनों काले कृषि कानून के खिलाफ किसानों के लगातार आंदोलन के चलते आज जब मोदी की तानाशाह सरकार को पीछे हटना पड़ा है,तो इससे जो नई प्रस्थिति पैदा हुई है,उसमें हमें और भी जोरदार संघर्ष चला कर अपने पार्टी के फैलाव को तेजी से बढ़ाना है।

कोई टिप्पणी नहीं

Type you comments here!