Breaking News

केंद्रीय विद्यालय का बिजली कनेक्शन कटने पर कर्मचारियों ने किए क्वार्टर खाली


यूपी हापुड़ से विशू अग्रवाल की रिपोर्ट

केन्द्रीय विद्यालय के बिजली बिल में गडबडी के मामले मं विद्युत निगम के 25 अधिकारियो को कारण बताओ नोटिस जारी किया गया है जिसको लेकर विभाग में अफरा तफरी के साथ हडकम्प व्याप्त है। एसई यूके सिंह ने बताया कि पश्चिमांचल निगम के एमडी के निर्देश पर तत्कालीन 8 एक्सईन सहित पच्चीस को चार्जशीट जारी हुयी है। बताते चलें केन्द्रीय विद्यालय बाबूगढ में कर्मचारियो के रहने को क्वार्टर बने हुए है। जिसमें विद्युत आपूर्ति को विभागीय कनैक्शन जारी था। विभागीय लापरवाही के कारण 40 एफएफ (मीटर गुणांक) के स्थान पर 01 एमएफ का फैक्टर लगाकर बिल जारी किये गये थे। एक जौलाई 2013 से 6 जनवरी 2018 तक 01 एमएफ पर निगम द्वारा जारी बिलो को भुगतान विद्यालय ने किया था। मीटर फुकने पर जब विभाग ने नया मीटर लगाया तो मामला पकड़ा गया। गलती से 8 लाख रूपये का नुकसान होने पर विभाग ने विद्यालय को पुराने मीटर का बिल जारी कर दिया। रीडिग में 40 यूनिट की जगह 1 यूनिट का पैसा लिया जाने से निगम ने अपनी गलती विद्यालय पर थैापी तो केन्द्रिय विद्यालय के तत्कालीन प्रधानाचार्य सुशील गुर्जर प्रकरण को उपभोक्ता फोरम में ले गये। विद्यालय ने मामले को विधानसभा एवं विधान परिषद मेें भी उठवाया । विद्युत निगम ने 8 लाख रूपये का बकाया जमा ना करने पर विद्यालय का बिजली कनैक्शन काट दिया तो कर्मचारियो ने क्वार्टर खाली कर दिये। विद्यालय के अनुसार निगम द्वारा भेजे बिलो का हमेशा भुगतान किया गया है। इकट्ठा आठ लाख रूपये कहां से व किस मद से लायें? निगम द्वारा बिजली काटे जाने पर कर्मचारी किराये पर बाहर रह रहे है। सूत्रो के अनुसार प्रकरण से जुडे तत्कालीन एक्सईन पंकज गोयल , संदीप गोयल, विपुल जैन, चंदन प्रकाश, प्रिन्स कुमार, मुकेश गर्ग, प्रवीण कुमार, सचिन कुमार के साथ एसडीओ पीके गोयल, संशाक मिश्र , अवधेश कुमार, दीपांशु सहाय, यशपाल सिंह , एईआर सचिन, अनुप सिंह , योगेन्द्र तथा लेखाकार आनंद पाल व संजय तथा बिल लिपिक चंद्रपाल, दिनेश, विजय तथा जेई राधेश्याम, प्रदीप व मनोज तथा टीजीटी महेश कुमार को चार्ज शीट दे रिकवरी व सस्पेंशन की कार्यवाही जारी है। साथ ही विभाग में पुराने रिकॉर्ड खंगाल गलती किस स्तर पर हुयी तलाशा जा रहा है।

कोई टिप्पणी नहीं

Type you comments here!