Breaking News

वेलेंटाइन डे का विरोध करते हुए बच्चों ने किया माता पिता का पुजन


सोनो जमुई संवाददाता चंद्रदेव बरनवाल की रिपोर्ट

 सरस्वती शिशु मंदिर सोनो में भैया बहनों के द्वारा वेलेंटाइन डे का विरोध करते हुए इसे मातृ पितृ पूजन दिवस के रूप में मनाया गया । साथ ही 14 फरवरी 2019 को पुलवामा में आतंकवादियों द्वारा देश के 44 वीर शहीदों के प्रति 02 मीनट का मौन रखकर श्रद्धांजलि अर्पित की गई । कार्यक्रम की अध्यक्षता विद्यालय प्रबंधन कार्यकारिणी समिति के अध्यक्ष सह सेवा निवृत्त शिक्षक कामदेव दूबे ने की , जबकि कार्यक्रम का संचालन प्रधानाचार्य रंजीत कुमार मिश्रा एवं विद्यालय प्रबंधन समिति सदस्य सह शिक्षाविद कामदेव सिंह के द्वारा किया गया । अपने संबोधन में मातृ पितृ पूजन की परंपरा को रखते हुए विद्यालय प्रबंधन कार्यकारिणी समिति के सचिव रणजीत सिंह ने कहा कि बच्चों के प्रथम गुरु माता पिता ही होते हैं जबकि विद्यालय जाने पर शिक्षक अर्थात आचार्य ही गुरु होते हैं । सचिव रण्जीत सिंह ने सरस्वती शिशु मंदिर एवं अन्य विद्यालयों की तुलना करते हुए कहा कि इस विद्यालय में शिक्षा के साथ साथ संस्कार भी दिया जाता है जबकि अन्य विद्यालयों में केवल शिक्षा दी जाती है । इन्होंने भैया बहन एवं अभिभावकों को संबोधित करते हुए कहा कि भगवान गणेश , भीष्म पितामह , श्रवण कुमार तथा मर्यादा पुरुषोत्तम भगवान श्रीराम ने भी पिता की आज्ञा का पालन किया था । हम भी उसी परंपरा के वंशज हैं । अपने समापन भाषण में अध्यक्ष कामदेव दूबे ने कहा कि सरस्वती शिशु मंदिर में बच्चों को संस्कार युक्त शिक्षा दी जाती है साथ ही अभिभावकों का सुझाव , सलाह एवं मार्गदर्शन भी लिया जाता है । कार्यक्रम में समिति सदस्य सह भाजपा अध्यक्ष मनोज कुमार सिंह , सदस्य सह शिक्षाविद कामदेव सिंह , आचार्य निर्दोष कुमार सिंह , सुशील कुमार पाण्डेय , अतुल कुमार सिंह , आचार्या सोनी मिश्रा , अभिभावक सह सदस्य जाटो रजक तिलकपुर के अलावा पार्वती देवी केशोफरका , मनोहर साव , नीतू देवी सोनो , बमबम सिंह , सुनीता देवी महेश्वरी , करूणा देवी , शिरोमणी सिंह सहित काफी संख्या में अभिभावक एवं भैया बहन उपस्थित थे ।

कोई टिप्पणी नहीं

Type you comments here!