Breaking News

महान योद्धा पहाड़ पुरुष दशरथ मांझी के जन्म दिवस पर शत शत नमन


सोनो जमुई संवाददाता चंद्रदेव बरनवाल की रिपोर्ट

सोनो बाजार निवासी प्रसिद्ध समाजसेवी व डॉ सुबोध कुमार गुप्ता ने बताया कि 14 फरवरी को वेलेंटाइन डे के साथ साथ बिहार की एक ऐसी महान आत्मा का जन्मदिन है जिसने पत्नी के प्यार में पहाड़ का सीना चीर डाला था । यह नाम इंसानी जज्बे और जुनून की एक ऐसी मिसाल है जिसने असंभव को संभव कर दिखाया और अपने फौलादी इरादों से पहाड़ का सीना चीर दिया । बिहार के गया जिले में एक गांव है जिसका नाम है गहलौर गांव । वहीं एक गरीब भूमिहीन मजदूर परिवार में जन्मा आम सा इंसान था दशरथ मांझी । वो मूसहर बिरादरी से था । उसका परिवार खेतों में मजदूरी करता था । भूख लगी तो खेतों से ही चूहे मारे और भोजन का जुगाड़ कर लिया । ये शौक नहीं मजबूरी होती थी इनकी । ना खेती बाड़ी ओर ना ही कोई रोजगार । इस दौरान दशरथ को एक लड़की से प्रेम हुआ ओर उसने शादी भी की । गांव में अधिक संसाधन नहीं थे । पीने के लिये पानी भी कम ही था । गर्मियों के दिनों में हाल बद से बदतर हो जाता था । गांव की दूसरी औरतों की तरह ही दशरथ मांझी की पत्नी भी रोज पहाड़ पार कर दूसरे गांव से पानी लाती थी । अक्सर ही औरतें वहां फिसलकर गिर पड़तीं ओर उनका पानी बिखर जाता , उन्हें चोट भी लगती । दशरथ की पत्नी के साथ कई बार ऐसा हुआ । ये देखकर उसे बहुत दुःख होता था । उसके मन में बार बार यही ख्याल आता कि काश ये पहाड़ यहां न होता । गांव के लोगों का जीवन कुछ तो आराम से जरूर गुजरता । उस दौरान एक दिन एक हादसा हुआ । यूं तो दशरथ की पत्नी कई बार फिसली थी पहाड़ पर ओर गिरी भी थी । लेकिन थोड़ी बहुत चोट लगती और फिर सब सामान्य हो जाता था । मगर इस बार ऐसा नहीं हुआ । अबकी वो गिरी तो फिर नहीं उठी । पत्नी की मौत ने दशरथ को पीड़ा के समंदर में धकेल दिया । प्रेम को पीड़ा दी थी उस पहाड़ ने जिस पर फिसल कर उसकी पत्नी की मौत हुयी थी । वो पहाड़ उसके लिये शत्रुवत हो गया । तो दशरथ ने भी ठान लिया कि वो उस पहाड़ को हटा कर ही दम लेगा । गरीबी ऐसी थी कि दो जून की रोटी भी मुश्किल में मिल पाती थी तो औजार कहां से लाता । उसने अपनी बकरी बेच डाली और छेनी हथौड़ा खरीद लाया । अगले दिन सुबह सुबह उसने पहाड़ काटकर रास्ता बनाना शुरू कर दिया । लोग दशरथ को अविश्वास से देखते । देखकर हंसते ओर उसका मजाक उड़ाते थे । मगर वो उनकी हरकतों से बेखबर रहता । वक्त गुजरता रहा मगर इन सबसे बेखबर अपनी धुन का पक्का दशरथ मांझी अपने काम में लगा रहा । पहाड़ के सीने की कठोर चट्टानें उसकी छेनी के प्रहारों से कट-कटकर गिरती रहीं और रास्ता बनता रहा । पत्नी की मौत से उमड़े दुःख से उसका संकल्प और अधिक दृढ़ हो गया था । बाईस साल की अथक मेहनत के बाद एक दिन पहाड़ के सीने को चीरता हुआ एक रास्ता दूसरे गांव तक निकल आया । इससे पास के कस्बे की दूरी जो पहले अस्सी किलोमीटर से भी अधिक थी अब मात्र तेरह किलोमीटर हो गई थी । अकेले अपने दम पर यह करिश्मा कर दिखाया था दशरथ मांझी ने । वो कोई बादशाह नहीं था । उसके पास दौलत शोहरत और ताकत भी नहीं थी । कुछ था तो बस प्रेम।

कोई टिप्पणी नहीं

Type you comments here!